उठ जा बाबु आंखी खोल

उठ जा बाबु आंखी खोल
होगे बिहनिया हल्ला बोल
सूत उठ के बासी खा
थारी धर के इस्कूल जा
इस्कूल जा के पट्टी फॉर
अऊ पेन्सिल ला कस के घोर
मास्टर ला तैं गारी देबे
चाक चोराके खीसा भरबे
सरकारी पुस्तक ला तैं चीर
बांटी खेलबे बनबे बीर
पढ़े के बेर पेट पिराही
दांतों पिराही,मुडो पिराही
भात खा के दुक्की भाग
मनटोरा के चोराले साग
समारू घर के आमा टोर
देखिस टेकर आंखी फॉर
बरातू ब्यारा के राचर छोर
ढील दे गरुआ होगे भोर
दाई-ददा के मूड ला फॉर
डोकरा बबा के धोती छोर
डोकरी दी के चश्मा हेर
खई ले बर ओला घेर
इही बूता मा तरक्की करबे
बहुत बड़े तैं साहब बनबे
आघू आघू बढे चल
चेत लगा के पढ़े चल

आपके
गंवईहा संगवारी
ललित शर्मा
राष्‍ट्रीय महासचिव
अर्टिसन वेलफेयर ओआरजी. न्यू दिल्ली
अभनपुर के रहवैया
मोर ब्लॉग हे-
http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
http://ekloharki.blogspot.com

Related posts:

Leave a Reply