कबिता : होरी के बजे नंगारा हे

होरी के फाग म चैतू शूंभय
फिरतू के बजे नंगारा हे।
भांग-मंद मा मंगलू नाचे-झपय
मंगतिन के मया भरे बियारा हे।
बुधू ह उड़ावय फुदकी-गुलाल
अंचरा तोपे बुधनी के गाल होगे लाल।
लईका-जुवान टोली म घूमय
गली-दुवारी म मस्ती छाए हे।
गोंदा-दशमत-परसा के सुग्घर खिले फूल
ऐसो के फागुन ह, नवा बिहिनिया लाए हे।

संदीप साहू ‘प्रणय’
68एफ, रिसाली सेक्टर
भिलाईनगर, जि. दुर्ग

Related posts:

Leave a Reply