गजानंद प्रसाद देवांगन जी के कविता

चूनी के अंगाकर
कनकी के माढ़ ।
खा के गुजारत हे
जिनगी ल ठाढ़ ।

कभू कभू चटनी बासी
तिहार बार के भात ।
बिचारा गरीब के
जस दिन तस रात ।

चिरहा अंगरखा
कनिहा म फरिया ।
तोप ढांक के रहत
छितका कस कुरिया ।

उत्ती के लाली अउ
बुड़ती के पिंवरी ।
दूनो गरीब के
डेरौठी के ढिबरी ।

गीता पुरान होगे
करमा ददरिया ।
गंगा गदवरी कस
पछीना के तरिया ।

कन्हार मटासी ल
खनत अउ कोड़त ।
धरती अगास ल
एके म जोड़त ।

फेर तरी ले भोंभरा
ऊप्पर ले घाम ।
भूंजत होरा कस
गजब हे राम ।

तिरवर मंझनिया के
झकोरत झांझ ।
तरसुनहा के पेट ल
दंदोरत हे सांझ ।

टूटगे गांधी के
सुराजी सपना ।
जियत मरत ले
रोना अउ कलपना ।

दया मया सेवा
रख अपन नसीब ।
दूसर बर सरग
बनावत हे गरीब ।

गजानंद प्रसाद देवांगन

Related posts:

3 comments

  • Mahendra Dewangan Maati

    गजानंद प्रसाद देवांगन जी के सब कविता ह अंतस ल छू देथे |
    कवि हिरदय ,सरल स्वभाव अऊ मानस मर्मज्ञ गजानंद जी ल श्रद्धा सुमन अरपित करत हों |
    ओम शांति |

  • सुनिल शर्मा

    अड़बड़ सुग्घर रचना हे शब्द कमती हवय एखर बरनन बर

  • द्रोण कुमार सार्वा

    छत्तीसगढ़ के मनखे के भाखा ल अपन अन्तस् के आरो कस समटाय ये रचना बर सुघ्घर मय दुलार हमर बड़का सियान रामचरित के गुणी अऊ ज्ञान के भण्डार देवांगन जी के अइसने आरो हमला मिलट रही।

Leave a Reply