गाँव कहाँ सोरियावत हें (छत्तीसगढ़ी कविता संग्रह के कुछ अंश )

Budhram_Yadav
जुन्ना दइहनहीं म जब ले
दारु भट्ठी होटल खुलगे
टूरा टनका मन बहकत हें
सब चाल चरित्तर ल भूलगें
मुख दरवाजा म लिखाये
हावय पंचयती राज जिहाँ
चतवारे  खातिर चतुरा  मन
नई आवत हांवय बाज उहाँ
गुरतुर भाखा सपना हो गय
सब काँव -काँव  नारियावत हें
देखते देखत अब गाँव गियाँ
सब सहर कती ओरियावत हें !
कलपत कोयली बिलपत मैना
मोर गाँव कहाँ सोरियावत हें !
-बुधराम यादव 

Related posts:

3 comments

Leave a Reply