चंदन हे मोर देस के माटी

चंदन हे मोर देस के माटी, पावन मोर गांव हे ।
बाजय जिंहा धरम के घंटी, तेखर छत्‍तीसगढ नाव हे ।।

होत बिहिनिया खेत जाये, नागर घर के नगरिहा ।
भूमर-भूमर बनिहारिन गावैं, करमा सुआ ददरिया ।
परत जिंहा हे सुरूज देव के, चकमिक पहिली पांव हे ।।

राम असन मर्यादा वाले, कृष्‍णा करम कबीर हे ।
गांधी सुभास आजाद भगतसिंग, आजादी के रनधीर हे ।
गंगा जमुना के निरमल पानी में, ममता मया के छांव हे ।।

अनधन-गियान गीत उपजइया, माटी कोयला पथरा ।
साधु संत मपसी के धरती, सुख शांति अंचरा ।
प्रेम सांति भाईचारा, हमर इही भाव हे ।।

बाजे जिंहा धरम के घंटी तेखर छत्‍तीसगढ नाव हे   !!

डॉ.मदन देवांगन
राजा परपोडी, दुर्ग

Related posts:

  • अद्भुत माटी प्रेम!!

  • मोला संघ के एक गीत याद आ गे
    चंदन है इस देश के माटीं
    तपो भूमि हर ग्राम है हर बाला देवी प्रतिमा बच्चा बच्चा राम हैँ

Leave a Reply