छत्‍तीसगढ़ी लोक कथा : घंमडी मंत्री

वीरेन्द्र सरल

Birendra Saralएक राज मे एक राजा राज करय। वो राज म अन्न धन, गौ लक्ष्मी कुटुंब परिवार के सब भरपूर भंडार रहय, सब परजा मन सुखी रहय। सबो कोती बने सुख संपत्ति रहय। कोन्हो ला कोन्हो किसम के दुख पीड़ा नई सतावय। एक समे के बात आय। राजा के मंत्री मन ला बहुत घंमड होगे कि वो राज मे उंखर ले जादा बुद्धिमान जीव कोन्हो नइ हे। ओमन सब परजा ला मूरख समझे अउ सोचय कि राज के सुख शांति सब हमरे भरोसा म हावे। मंत्री मन के हाव भाव ला देख के राजा जान डारिस कि येमन ला अपन बुद्धि ऊपर घंमड होगे हावे । समे रहत इखर घंमड ला तोड़ना बहुत जरूरी हावे नही ते ये बीमारी बढ़ते जाही अउ राज के सुख शांति ला नश्ट कर दीही। राजा ह उपाय सोचे लगिस। वोला एक उपाय सूझिस तब सब मंत्री मनला राज दरबार मे बला के किहिस-बहुत दिन होगे हावे अपन राज ला घूमे नई हन, चलो आज हमन अपन राज भर ला घूम के देख के पता करथन कि हमर राज म परजा मन कतका सुखी हे धुन दुखी हावे।
राजा के आज्ञा पाके सब मंत्री मन अपन अपन वाहन ला सजाय लगिन। अपन अपन वाहन म सवार हो के सब मंत्री मन राजा के आधू पाछू चले लगिन। कुवांर के महीना रहय। मार लक लक ले घाम करत रहय।
एक ठउर म एक किसान ला काम करत देख राजा ह मंत्री मन ला उही मेरन ठहरे बर किहिस। साठ बछर के सियान किसान ह नांगर फांद के खेत ला जोतत रहय। राजा ह वो किसान के तीर म जाके पूछिस-कइसे बबा अदरा नई बरसिस का ? किसान किहिस -बरसिस राजा साहब फेर खोचका डबरा के पुरतीन होगे। राजा फेर पूछिस-अउ मघा के काय हाल चाल रिहिस ? अब मघा के काय बतावव राजा साहब, बरसिस फेर जिहां के चीज तिहां चलदिस। किसान के बात सुनके राज ला बड दुख होइस। राजा किहिस -अच्छा बबा ये बता उतरा चितरा म बरसिस के नई बरसिस ? बरसिस राजा साहेब तभे तो मैहा ये कुवांर के महीना मे नागर जोंतत हवं।
राजा अउ किसान के गोठबात ह मंत्री मन के समझ म कुछु नई आवत रहय। बात के रहस्य ला मने मन म सोचत सब झन आघू बढगे। भ्रमण के बाद सब मंत्री अउ राजा ह राज महल म पहुंचिन। सब अपन अपन आसन म बइठिन तब राजा पूछिस-देखव जी मंत्री हो ,इहां सब एक ले बढ़ के एक विद्ववान हव। अभी सब झन वो किसान के संग मोर गोठ बात ला सुने हव। आप मन ला बस वो गोठबात के रहस्य ला बताना हावे। एकर बर आप मन ला एक महीना के समे दे जावत हावें। जउन मंत्री ह ये गोठबात के मतलब ला सबले पहिली बता दिही वोला सौ सोन के मोहर इनाम दे जाही अउ राज के प्रधान मंत्री बनाय जाही। अतका कहिके राजा ह सभा समाप्त करे के घोशणा करिस।
इनाम अउ प्रधान मंत्री बने के लालच म सब मंत्री अड़बड दिमाग लगा के राजा अउ किसान के गोठबात के मतलब निकाले के उदीम करिन फेर कोन्हो सफल नइ होइन। बड़े बड़े ज्ञानी ध्यानी अउ विद्ववान मन घला हक खागे। मंत्री मन किसान के हाथ पांव जोड के वो बात के मतलब पूछे। किसान ला रंग रंग के लालच देवय। किसान कहय जब तक राजा ह ये बात के मतलब बताय के आज्ञा नई दीही तब तक मै नइ बता सकव। आखिर म सब मंत्री थक हार गे अउ राजा के तीर म जाके हार मान के कहिन-ये बात के मतलब ला समझना हमर बस के बात नोहे राजा साहब। राजा किहिस-दिखगे तुंहर बुद्धिमानी ,नानकुन बात के मतलब नइ समझ पात हव अउ मनमाने घंमड करथव। अब दरबार म उही किसान ह आके अपन बात के मतलब ला सबला समझाही।
बिहान दिन वो किसान ला राज दरबार मे बलाय गिस। किसान दरबार म आके सबला परनाम करके बइठगे। राजा ह इशारा करिस तब किसान किहिस-राजा साहब वो दिन आप मन मोला पूछेव कि अदरा म बरसिस कि नइ बरसिस तब मेहा कहेवं बरसिस फेर खोचका डबरा के पुरतिन होगे। ये बात के मतलब आय आप के प्रश्न रिहिस जवानी म लोग लइका आइस ते नई आइस। खोचका डबरा के पुरतिन होगे के मतलब आय लइका तो आइस फेर जनम लेते ही मरगे। आप पूछेव मघा म बरसिस कि नइ बरसिस,मैहा कहेव बरसिस फेर जिहां के चीज तिहां चल दिसं मतलब मोर अधेड़ावस्था म संतान तो होइस तेमन बेटी आय उखंर पालन पोशण करेंव अउ उंखर बिहाव करके ससुराल बिदा कर देव। आप के तीसरा प्रश्न रिहिस उतरा चितरा के काय हाल चाल रहिस तब मे कहेव उतरा चितरा म बरसिस तभे तो ये कुंवार के महीना म नांगर जोतत हवं मतलब बुढ़ापा म बेटा जनम ले हावे। बेटा अभी नान्हे हावे तभे तो मोला काम करना पड़त हावे । अतका बताके किसान ह चुपचाप बइठगे।
राजा ह ऊंच ऊंच सिहांसन म बइठे मंत्री मन कोती ला देख के किहिस-तुमन राज के परजा ला मूरख समझे के भूल करथव। परजा घला बुद्धिमान हावे। अपन बुद्धिमानी म घंमड करना बने बात नोहय। राज के सुख समृद्धि अउ शांति ह सब मिलके बनथे। आज ले सब किरिया खालेव कि घमंड नइ करना हे अउ राज के परजा के सनमान करना हे।

वीरेन्द्र सरल
बोडरा(मगरलोड़)

Related posts:

2 comments

  • अमित कुमार चौहान

    अति सुग्घर बुता कहे हावव। आपमन के परयास ल देख मे ह मुड़ नवाथो… जोहार छत्तीसगढ़…

  • अमित कुमार चौहान

    अब्बड़ सुग्घर बुता करेहव आपमन…. मे ह माथ नवाथो…

Leave a Reply