डॉक्टर अउ कवि

मैं हरखराम पेंदरिया ‘देहाती’
गेयेंव डॉक्टर के पास
डाक्टर मोला देख के
अड़बड़ परसन्न होगे
सोचिस
शगुन बढ़िया दिखते हे आज
रिटायर्ड हेड मास्टर आय
अड़बड़ रुपया-पईसा हे येकर पास।
मोला देख के डॉक्टर ह पूछिस-
का तकलीफ हे तोला खास
अतका सुनेंव तहां ले में ह
काली मे ह एक ठक नवा कविता
लिखे रेहेंव
वोकर करन लगेव सत्यानाश।
येला देख के
घबरा गे डॉक्टर साब
बोलिस- ये का करत हच मोर बाप
मे तोला कविता सुनाए बर नई कहें हव
तोला का बीमारी हे
येला बता साफ-साफ।
में बोलेंव
डॉक्टर साहब
मोला कविता सुनाए के बीमारी हे
ऐकरे इलाज कराए बर
आय हांवव तोर पास।
हरखराम पेंदरिया ‘देहाती’
श्रीरामंदिर रोड
महासमुन्द

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *