नरेन्‍द्र वर्मा के हाईकू

टूटगे आज
मरजादा के डोरी
लाज के होरी ।

पईसा सार
नता-गोता ह घलो
होगे बेपार ।

मन म मया
सिरावत हे, पैसा
हमावत हे ।

बढती देख
ऑंखी पँडरियागे
मया उडा गे ।

करथे तेन
मरथे, कोढियेच
मन फरथे ।

पैसा के खेल
ईमानदार मन
पेल-ढपेल ।

परबुधिया
बनके झन ठगा
ठेंगवा चटा ।

परगे पेट
म फोरा, मुसुवा ह
निकालै कोरा ।

पेट के सेती
शहर जाथे, उहें
पेट कटाथे ।

मया के गीत
मन गुदगुदाथे
फागुन आथे ।

नरेन्‍द्र वर्मा
सुभाष वार्ड, भाटापारा
07726 – 222461

Related posts:

2 comments

  • बने हे वर्मा जी !!पढके मजा आइस !!

  • चोवा राम वर्मा बादल

    ये हायकू म वर्मा जी ह हकीकत बयानी करे हे। बधाई।

Leave a Reply