पढ़व, समझव अउ करव गियान के गोठ -राघवेन्द्र अग्रवाल

एक बखत के बात ये, संतखय्याम ह अपन एक झन चेला संग घनघोर जंगल के रद्दा ले जात रहिस हे। नमाज पढे क़े बेरा म दूनू गुरू-चेला नमाज पढ़े बर बइठिन तइसने उनला बघवा के गरजना सुने बर मिलिस अउ थोरेकच्च म देखिन के बघवा ह उंकरे डहर आवत हे। चेला ह डर के बारे एकठन रुख म चढ़गे जबके वोकर गुरू खय्याम ह धियान लगा के नमाज ल पढ़त रहय। बघवा वो करा आइस अउ चुपचाप चल दिस। बघवा के जाय बाद चेला ह रुख ले उतरिस अउ नमाज खतम होय के बाद म दूनू गुरु चेला फेर आगू रद्दा रेंगिन।
जात थोरेकेच्च बेर होय रहिस एक ठन मच्छर ह गुरु के गाल म काट दिस त वोला मारे बर गुरुजी ह अपन गाल म एक थपरा लगाइस। देखिस त चेला संक्खा करे लागिस अउ कथे-”गुरुजी छिमा करिहा मोर मन म एक ठन संक्खा हमा गे हे। अभीच्चे थोकन बेर पहिली जब बघवा तुंहर तिर आइस तब तुमन थोरकोच्च नि डेर्रायव अउ थोकन मच्छर काट दिस त घुस्सा गेव।”
मुसलमान संत खय्याम ह कथे-”तैं सिरतोन कहत हस। फेर तैं हर भुलावत हस जब बघवा ह आय रिहिस त में ह अपन खुदा के संग म रहेंव जबके मच्छर काटे के बेरा एक झन मनखे के संग। इही कारण ये के मोला बघवा आय के भनक तक नि लगिस।”

-राघवेन्द्र अग्रवाल
(खैरघटा)
बलौदाबाजार

Related posts:

  • वाह। बहुत ही प्रेरक प्रसंग है।

    – आनंद

  • bad sughgha giyan bante hav ….

  • Anonymous

    B.Bahut.achha.paryas.karat.ho.chhatisgrhi.bhasa.la.uchay.ke.udeem.ha.mola.bane.lagathe.kon.bandhhi.bilaighechghati.re.facchoti.anilbhatpahari

  • Anilbhatpahari.balodabazar.c.g

    MMahngaihe,jankaisebachhi,karlaihe,anil.bhatpahari,balodabazar.neta.konhe.joun.net.net.ke.gothiyat.he,.anil.bhatpahari.jaichhatisgarh..

  • Anil.bhatpahari

    .”Ujrat.he.jangal,au.dharti.khiyat.he,sab.jaga.howat.he.torfor..kabhohi.bihan.tai.batade.sangi.mor..badev.dewata.dhami,nai.jagisbhagmor”.anilbhatpahari.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *