बूढ़ी दाई

पितर मन के पियास बर
अंजरी भर जल
साध बर, बरा-बबरा,
सोंहारी संग हूम
रंधनी खोली के खपरा ले
उड़ावत धुंगिया
बरा के बगरत महमहई
लिपाये-चंउक पुराये
ओरवाती म बगरे फूल
ओखरे संग भुखाए लइका
दूनो मन, अगोरत हावय
कोन झकोरा संग,
मोर बूढ़ी दाई आही.
अउ बरा बबरा खवाही.

संजीव तिवारी

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *