मजदूर दिवस म कविता: मजदूर




पसीना ओगार के मेंहनत करथे
दुनिया ल सिरजाथे
रात दिन मजदूरी करथे
तब मजदूर कहाथे ।

नइ खाये वो इडली डोसा
चटनी बासी खाथे
धरती दाई ल हरियर करथे
माटी के गुन गाथे ।

घाम पियास ल सहिके संगी
जांगर टोर कमाथे
खून पसीना एक करथे
तब रोजी रोटी पाथे ।

बिना मजदूर के काम नइ चले
दुनिया ह रुक जाही
जब तक मेंहनत नइ करही त
कहां ले विकास हो पाही ।

महेन्द्र देवांगन “माटी”
पंडरिया
जिला — कबीरधाम (छ ग )
पिन – 491559
मो नं — 8602407353
Email – mahendradewanganmati@gmail.com






Related posts:

Leave a Reply