लक्ष्मण मस्तुरिया के खण्‍ड काव्‍य : सोनाखान के आगी

लिखे-पढ़े के सुख

Sonakhan Ke Aagiकोनो भी देस-राज के तरक्‍की के मूल म भासा. संस्कृति अउ जनम भुंई के महात्‍तम माने जाथे। एकर बिना कोनो भी किसम के विकास प्रगति बढ़ोत्तरी अकारथ होथे। छत्‍तीसगढ़ राज नई बनेरिस वो समे बीर नरायेन सिंह के ए बीरगाथा सुनके नौजवान मन के मन म भारी जोस अउ आत्म गौरव के भाव जागतरिस, कवितापाठ के बीच बीच म जय छत्‍तीसगढ़ के नारा लगावंय। छत्‍तीसगढ़ राज बने के बाद एकर महत्व बाढ़गे हे, नवा पीढी ल अपन पुरखा मन के त्‍याग बलिदान अउ जोम के जानकारी होना चाही।

“सोनाखान के आगी” के पहली प्रकासन 1983 म, स्व. स्वरूप सिंह पोर्ते (तात्कालिक जिलाध्यक्ष दुर्ग) के प्रेरणा प्रोत्साहन ले होय रिहिस। समे के संगे संग रचना के महत्व घलो बाढ़थे। जब राज नइ बने रहिस तब छत्‍तीसगढ़ी नौजवान मन के मन म स्वाभिमान जाए के भाव लेके, अमर शहीद वीरनारायण सिह के वीरगाथा के रचना 1972-73 म होय रहिस, वो समें याद रखे के सुबिधा ल धियान म रखके अउ कतको पद ल छांट के अलग करना पहिस। वो गलती होगे। जगह जगह भटके के कारन कतको रचना के संग वोहू गंवागे। छपे रहिस तब ए बांचगे। कतको नौजवान संगी मन एकर मांग करथे, श्री मधुकर कदम जी हर एकरे अधार म एक उन सिनेमा घलो वना डारे हे। कतको जगह वोला देखाए जाथे।

अपन पूर्वज पुरखा मन के जयकार करे म मन म स्वाभिमान के भाव जागथे। इही विचार ले एकर नवा संस्करण नौजवान मन बर प्रकाशित करे के मन होइस। पढ़ के कहूं तुंहर मन म अपन शहीद बीरनारायन सिह के त्याग बलिदान के किस्सा के झलक जागही तब मोर ए बड़ भाग होही, ए रचना सार्थक होही। लिखे पढे के सुख इही हे, के पढ़इया सुनइया मन ल मंजा आय, आनंद आय, अउ हिरदे म ऊंचा उठे के भाव जागे।

लक्ष्मण मस्तुरिया


संपूर्ण खण्‍ड काव्‍य सेव करें और आफलाईन पढ़ें

Related posts:

Leave a Reply