सपना के गांव

हाना हाना म डोले मोर सपना के गांव
पाना पाना म लिखे महतारी के नांव.

झुनुक झेंगुर हर गावे फुदुक टेटका मगन
आनी बानी के फूल इंहा हरियर उपवन
बाना बाना मा बोले मोर सपना के गांव
पाना पाना म लिखे महतारी के नांव.

धरे नांगर तुतारी, धनहा बिजहा माटी
धरती दाई के बेटा के भुइंया थाती
गाना गाना म फूले मोर सपना के गांव
पाना पाना म लिखे महतारी के नांव.

ऐंठी चूरी महावर छिंटही लुगरा पहिरे
तीजा पोरा म ठमके बेनी फुंदरा झमरे
रीति रीति म गावे मोर सपना के गांव
पाना पाना म लिखे महतारी के नांव.

चंदा सुरूज चमके कोयली कुहक मारे
भाखा बोली मया के इहां मंदरस घोरे
ताना बाना मा झुमे मोर सपना के गांव
पाना पाना म लिखे महतारी के नांव.

शकुन्तला तरार

Related posts:

4 comments

  • SHEETAL K SAHU

    haw isnech he mor sapna ke goan

  • धरे नांगर तुतारी, धनहा बिजहा माटी
    धरती दाई के बेटा के भुइंया थाती
    गाना गाना म फूले मोर सपना के गांव
    पाना पाना म लिखे महतारी के नांव.

    फेर कतका दुख के बात हे भुइया के बेटा बनी भूती करे बर परदेश मा परे हे

  • शकुन्तला शर्मा

    मोर सहिनाव के रचना हर गजब सुघ्घर हे अऊ जतका सुघ्घर ओकर रचना हे ओतके सुघ्घर ओकर फोटो घलाव हर हावय । सुन्दर कवयित्री के सुन्दर कविता । बड नीक लागत हे ।

  • BHOLARAM SAHU 'DAU'

    bahut sugghar geet he

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *