सबले बड़े पीर

फोरा परे जे हाथ मे मिटगे हे लकीर
पीरा के संसार में सबले बड़े पीर।
सबले बड़े पीर लिख्रय देश के तकदीर।
पीरा के संसार में …

माथा ले चुचुवाय कतको कारी पछीना
मिहनत संग जीना इंखर मिहनत हे मरना।
बिपत संग खेले ये मन तक-धीन, धी-धीना,
सीखे हे शंकर कस, करू-कासा ल पीना।
पसिया ल पी खुद, खवाए दूसर ल खीर॥
पीरा के संसार में …

बड़े-बड़े बांध, महल, राज अउ राजधानी,
मिहमत के देवता के बरनत हे कहानी।
जोंते जांगर, कमाए, खेती अऊ किसानी,
बहती धारा ल मोड़े, पथरा ल करे पानी।
काट सके नई तभो ले, गरीबी के जंजीर॥
पीरा के संसार …

लोहा ल पिघला दय, इंखर जांगर मा वो दम हे
दुनिया ल हिला दे। ताकत हे यहु का कम हे।
कर्म में निरत हे, चाहे सम ए या बिसम हे,
जान ल लड़ा दय, कहुॅ आय कभू जम हे।
जे मन हावय अधनंगरा भूक्खड़-फकीर॥
पीरा के संसार मे…

सूरज ले ये मन है कबिया के लाने,
मुठियाए हाथ ल उबा के ताने।
समुंदर ल राहन दे कटकट ले नुनछूर,
मिहनत के रोटी ल पछीना संग साने।
भागीरथ कस, श्रर्मी आवय मर्मी अय कबीर
पीरा के संसार मे…

आत्माराम कोश ”आमात्य”
पुरानी मंडी चौक
राजनांदगांव

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *