सरद्धा

बिहिनिया -बिहिनिया जुन्ना पेपर ला लहुटा – पहटा के चांटत – बांचत बिसाल खुरसी म बइठे हे। आजे काल साहर ले आहे गांव म। ज्यादा खेती खार तो नइहे फेर अतेक मरहा तको नइहे। ददा साहर में नौकरी करत रहिस हे। अपनो ह पढ़ई करत -करत इस्कूल म साहेब होगे हे। आना जाना लगे रहीथे।
“जय शंकर भोले।”
बिसाल दुवारी कोती ला मुड़ के देखथे। चुकचुक ले गोरिया, उंचपुर, छरहरा बदन के मनखे दुवारी म ठाढ़े हे। चक्क सुफेद धोती झकझक ले झोलझोलहा कुरता, देखे म मलमल अस कोवंर। टोटा म छाती के खालहे के आवत ओरमे रूदराक्छ के माला। माथा म छोट कुन कुॅंहकु के टीका। बगल म कपड़ा के बेग ओरमे हे। बिसाल देखते साठ समझगे कहिस – बइठ महाराज! कहां ले आए हव ? अइसे तो हमन रूद्रपुर ले आए हन बिसाल भाई – महराज अपन खांध म टॅंगाए – ओरमे कपड़ा के बेग ल सोझियावत कइथे। “बिसाल भाई” अपन नाव सुनके बिसाल एकघांव चकरित होगे-अरे! मोर नाव महराज………….। बिसाल सोचते हे महराज आगू कहिथे – ठहिरे खम्हरिया म हवन तीर – तखार ल सइकिल म घुम लेथन। “हूं ऽऽ…ऽऽ…. कब के आए हौ ” ? बस चारे पांच दिन होवत हे – महराज चट्ट ले उत्तर दिस। बिसाल मुड़ी ल डोलावत अकर -जकर देखे लागिस – कोने हावय ते सेर चाउंर देवय। मन के बात गड़रिया जानय बारा घाट के पानी पीये महराज फट बिसाल के हावभाव ल समझगे। ’बात ये हे बिसाल भार्इ्र’ बिच्चे म महराज ल टोकत कहिथे – हमन हरेक साल इही समे म भगवान रूद्रदेव के मंदिर ले जम्मो दिसा म निकलथन अउ देषभर म घूम घूमके भगवान रूद्रदेव के अभिसेक खातिर आदेस लेथन। बिसाल कभू हूॅ … हॉ काहय त कभू मूड़ी ल हला देवय। महराज के गोठ घोड़ा म सवार होइस ते रूके के नाम नई लय। बिसाल ह महराज के मुंह ला देखतेच रहीगे। महराज हॅ बेग के चैन ल चर्र के खोल दिस। एक ठन कापी, पींयर पींयर किताब अउ पेन निकाल डरिस। गोठ के संगे -संग महराज हॅ कापी -पतरा ल घला लमा डारिस। कहीथे – हमर संस्थान म पूजा – पाठ, हवन – अभिसेक पूरा बिधि -बिधान से होथे फेर सरधालू भाई मन के सहुलियत खातिर समान्य अउ बिसेस दुनो परकार के करथन। सुन के बिसाल मुसकाय बिगर नई रहे सकिस। बामहन देवता थोरके चुप रहिस तहान फेर चालू। इसपरेस फेल होगे। तैं डार – डार त हम पान पान। महराज रसीद बुक ला खोल डरिस – ए देखव ! बाजू वाले गांव उसलापुर के दाउ हॅ महारूदराभिसेक के आडर दे हावय। ’वो सब तो ठीक हे महराज! फेर हमन अभीन अभिसेक-उभिसेक नई करावत हन।’ महराज सोचे लागिस पासा हा उल्टा परगे का। बिसाल रूके -रूके कस आगू कहिस – ’अउ जिहां तक मोर खियाल हे दीन-हीन के सेवा ले जबर दीगर -धरम दान -पुन अउ नइहे।’ महराज एक गोड़ म दुसर गोड़ के पांव ल मढ़ाये बइठे हे। पांव ल सहिलावत कहिथे – ’बिसाल भाई , वो सब तो आतमा के सांति खातिर होथे, संसार के दुख – पीरा ले छुटकारा काकर ले मिलथे, घर मे सुख-समरिदिध धन-मान कहां ले आथे एहू ला तो सोचॅव। बिसाल सोच के धार म बोहाय लागिस। कोनो ल बूरा लगय अइसन कभू केहे हे, न करे हे। दुवार म आय बामहन देवता ला खाली हाथ कइसे लहुटावंव। माटी के महक पानी के सुभाव अउ हवा के रंग ल कोनो अलग नई कर सकय। नस -नस म दया -धरम आदर अउ सम्मान, मीठ बोली अउ संस्कार छत्तीसगढ़ के पहिचान ंहे, बैरी ल घला उंच पीढ़वा देके इहेंच रिवाज हे। जेने अइस तेकरे कटोरा ल भरीस, भले अपन लांघन भूखे रही जाय। फोकट में धान के कटोरा नई कहाय हे छत्तीसगढ़ ह। अइसे -तइसे महराज अपन रसीद बुक ल खोल डारिस । उप्पर म करमांक डार के श्रीमान लगाके बिसाल के नाम लिखके पूछथे – बाबू जी के का नाम हे ? – श्री बेद राम। जाति म धोबी लिखागे, महराज ह तो गांव म घुसरे के पहिली सब्बो ल पता कर डार हे। गोत के संगे -संग परवार के जम्मो सदस्य मन के नांव ल सरलग पूछ -पूछ के लिखिस। महराज – ’कतेक वाला करना हे भाई साहब ? बिसाल – ’जोजियावत हव त एक सौ इनकावन रूपया वाला करवा लेथंव महराज, अइसे तो………….। अतका म महराज के मन नई माड़िस कहिस – अतेक दुरिहा ले आए हन। सिरिफ तुंहर सरधा अउ उपर वाले के कृपा ….अउ तुमन …..! बिसाल थोरिक सकुचागे। गाय कतको मरखण्डी रहाय दूहे बर राउते जानथे – ले भई तीन सौ इनकावन लिख ले फेर ऽऽ…ऽऽ… ”। ’ अं…..ह….हां मै कहॉं अभी पइसा मागथौं। बिसाल के गोठ ला पूरा नई होवन दिस। महराज ह ओला फुग्गा कस फुलो के हरू कर दिस – ’ अभी तो नाव लिख के जाथौं। तुंहर परवार के नाम से उहां रूद्रभिषेक होही। जब हमार आगमन दुबारा होही, हम तुंहर परवार के लियंे परसाद सरूप कुछु लाबो तब आप पइसा देहू – अभी नहीं।’ बिदा करे के पहिली आधा डर आधा बल करत बिसाल ह पूछथे – ’चाहा चलही महराज। ’अंधरा खोजय दू आंखी, महराज खुष होगे – ’जिहां परेम हे उहां सब कुछ हे बिसाल भाई , हिरदे मिलगे उहां काके भेदभाव ? चाहा पीके महराज चलते बनिस।
चार महिना बीतगे। नेकी कर दरिया में डार। बिसाल धीरे -धीरे सब बिसर गे। एक दिन बिसाल ठउंका खाये बर बइठत रहय। आचमन करके भोग भर लगाये रहिस हे के ठुक ले महराज पहुंच गे। बिसाल जेवन छोड़ के उठत रहिस हे के “ नहीं नहीं बिसाल भाई ! तुमन सांति से भोजन करव , अइसन ह अन के अपमान होथे। मै बइठ के अगोर लेथंव।” बिसाल ह महराज के बात नई काट सकिस। महराज ह बिसाल के खावत ले बिसाल के बाई ममता ले कटोरी मंगाके दू – तीन किसम के माला, नान -नान पुड़िया अउ परसाद निकाल के रख डरिस। बिसाल पांव परके के एक तीर खुरसी म बइठ गे। महराज एक -एक करके बिसाल ल देखाथे – ये तुलसी माला, महापरसाद , भोज पतरा कहत लइका मन बर छोटे -छोटे माला, सुहागिन मन बर कुॅंहकु, बंदन, चंदन के पुड़िया कटोरी म रखके बिसाल ल समझाथे – ये फटीक ए, आप के लिये। येहा रूदराभिषेक के संगे -संग पवित्र अउ स्थापित होगे हे। आप ल केवल सनिच्चर के दिन नहा -धोके उदबत्ती जला के धारण करना हे।’
महराज जब दुबारा अइगे पूजा -परसाद ल सउप दिस तब अउ का नेंग रहिगे , भइगे बिदागरी। बिसाल बिना कुछु कहे कुरिया मे गइस अउ ला के चार सौ रूपया महराज के हाथ म समरपित करके पॅंाव ल छुलिस – “कल्याण अस्तु।” सनिच्चर के दिन बड़े फजर बिसाल नहा – धोके अगर जलाइस अउ महराज के दिए समान के कटोरी ला धुंआ देखाइस। स्फटीक के माला ल निकाल के अपन घंेच म अरो लिस। एक अजीब आत्मीक आनंद बिसाल के हिरदे म खलबलाय लगिस। बिसाल ल सरग के सुख के अनभो होय लगीस।
रतिहा बिसाल सुते के पहिली माला टूटय झन सोंचके निकालिस अउ खटिया के खुरा म ओरमाइस। बिसाल कहॅू सुने रहय – फटिक के माला हॅ आपस म रगड़ाथे त ओमाले चिनगारी फूटथे। सोचिंस रगड़के देखव का ? ओकर आतमा धिक्कारथे -च्च …..च्च..! अतेक बड़ संका , उहू हॅं धरम के काम म ? महराज के दिए परसादी के परीक्छा , घोर पाप होही अउ कुछू नहीं। कलथी मार के बिसाल सुते के बहाना खोजे लगिस। जी अकुलागे । नींद नइ अमराइस। गलत तो नइ करत हौं , चिनगारी कइसना होथे तेला तो देख सकत हौं। उठके बइठ गे । माला ल दोनों हथेरी के बीच म रखिस अउ रगड़े लगिस । अंधियारी रात , ऑखी ल बटबटले ले नटेरे बिसाल टक लगाए देखत – एक दू….तीन….रगड़त हे खर्र खर्र।
बिसाल के बिसाल हिरदे ले सरद्धा हा ‘सर्र ‘के महराज बर गारी बनके निकल गे फेर फटीक के माला ले चिनगारी नइ निकलिस।

धर्मेन्द्र निर्मल

Related posts:

One comment

Leave a Reply