सेवा जस गीत

बन्दना :–

सुमिरन करतहौं दुरगा तोला,
करतहौं बिनती तुन्हार ओ।
गावत हौं तोर गुन ल दाई,
हमरो सुनले गोहार ओ।।

तर्ज :–

आ गे नौ नौ दिन के नवरात ओ,
नौ नौ कलश सजावौ मैं ह आज ओ।
जम्मो देवता बिराजे तोर समाज ओ,
आ गे नौ नौ दिन के नवरात ओ।

पहली कलश माता शैल पुत्री,
दूजा कलश ब्रम्ह्चारिणी।
तिजा कलश चंद्रघंटा बिराजे,
कलश सजावौ मैं ह आज ओ।
आ गे नौ नौ दिन के नवरात ओ।
नौ नौ कलश सजावौ…………

चउथा कलश माता कुषमाण्डा,
पांचवा कलश स्कंधमाता।
छठा बिराजे माता कात्यानी,
कलश सजावौ मैं ह आज ओ।
आ गे नौ नौ दिन के नवरात ओ।
नौ नौ कलश सजावौ………..

सातवा कलश माता कालरात्रि,
महागौरी आठवा कलश म,
नवम कलशा माता सिद्धिदात्री,
कलश सजावौ मैं ह आज ओ।
आ गे नौ नौ दिन के नवरात ओ।
नौ नौ कलश सजावौ……………

बोधन राम निषाद राज
स./लोहारा ,कबीरधाम (छ.ग.)



Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *