होथे कइसे संत हा (कुण्डलिया)

काला कहि अब संत रे, आसा गे सब  टूट ।
ढोंगी ढ़ोंगी साधु हे, धरम करम के लूट ।।
धरम करम के लूट, लूट गे राम कबीरा ।
ढ़ोंगी मन के खेल, देख होवत हे पीरा ।।
जानी कइसे संत, लगे अक्कल मा ताला ।
चाल ढाल हे एक, संत कहि अब हम काला ।।

होथे कइसे संत हा, हमला कोन बताय ।
रूखवा डारा नाच के, संत ला जिबराय ।।
संत ला जिबराय, फूल फर डारा लहसे ।
दीया के अंजोर, भेद खोलय गा बिहसे ।।
कह ‘रमेष‘ समझाय, जेन सुख शांति ल बोथे ।
पर बर जिथे ग जेन, संत ओही हा होथे ।
Ramesh Chouhan
रमेश कुमार सिंह चौहान

Related posts:

3 comments

Leave a Reply