लइका अउ सियान खेलव कुरिया मा

गरमी नंगत बाड़ गे हवय।सियान ल कोन पुछय,लइका मन घर कुरिया ले निकले के हिम्मत नइ करत हे।वइसे आजकल के लइकामन घलाव थोकिन सुगसुगहा बानी के रहिथे।दाईच ददा मन ओला अइसने बना डरे हावय। माटी मा झन खेल, घाम मा झन जा कुलर कर बइठ, ठंडा पानी पी,ताते तात खा …..। नानम परकार के टोकई मा लइकामन परिस्थिति ले जूझे अउ सहे के ताकत ल गवाँ डरिस। अब तो गांव लगे न सहर, गरमी के दिन मा लइका न अमरइया जाय,न धूपछाँव खेलय, न डंडा पिचरंगा खेलय।कुरिया मा धंधाय लइका…

पूरा पढ़व ..

सिंहावलोकनी दोहा : गरमी

गरमी हा आ गे हवय,परत हवय अब घाम। छइँहा खोजे नइ मिलय,जरत हवय जी चाम।। जरत हवय जी चाम हा,छाँव घलो नइ पाय। निसदिन काटे पेंड़ ला,अब काबर पछताय।। अब काबर पछताय तै,झेल घाम ला यार। पेंड़ लगाते तैं कहूँ,नइ परतिस जी मार।। नइ परतिस जी मार हा,मौसम होतिस कूल। हरियाली दिखतिस बने,सुग्घर झरतिस फूल।। सुग्घर झरतिस फूल तब,सब दिन होतिस ख़ास। हरियाली मा घाम के,नइ होतिस अहसास।। नइ होतिस अहसास जी,रहितिस सुग्घर छाँव। लइका पिचका संग मा,घूमें जाते गाँव।। घूमे जाते गाँव तै ,रहितिस संगी चार। गरमी के चिंता…

पूरा पढ़व ..