गीत : सावन महीना

सावन आथे त मन मा, उमंग भर जाथे। हरियर हरियर सबो तीर, रंग भर जाथे। बादर ले झरथे, रिमझिम पानी। जुड़ाथे जिया, खिलथे जिनगानी। मेंवा मिठाई, अंगाकर अउ चीला। करथे झड़ी त, खाथे माई पिला। खुलकूद लइका मन, मतंग घर जाथे। सावन आथे त मन मा….. । भर जाथे तरिया, नँदिया डबरा डोली। मन ला लुभाथे, झिंगरा मेचका बोली। खेती किसानी, अड़बड़ माते रहिथे। पुरवाही घलो, मतंग होके बहिथे। हँसी खुसी के जिया मा, तरंग भर जाथे। सावन आथे त मन मा….. । होथे जी हरेली ले, मुहतुर तिहार। सावन…

पूरा पढ़व ..

लइका बर खसरा अउ रुबैला टीका

समाज अउ सरकार दूनो हा लइका मन के स्वास्थ अउ इलाज बर नवा नवा उदिम करत हवय।देस के भविष्य, 9 महिना से लेके 15 बच्छर के लइका मन ला बने बने राखेबर टीकाकरन अभियान चलाय जावत हे। एमा शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विकास अउ पंचायत विभाग संघरा मिलके प्रचार प्रसार करत हे। 6 अगस्त से 15 अगस्त के बीच टीकाकरन हफ्ता मनाय जाही। इस्कूल, स्वास्थ्य केन्द्र, सरकारी अस्पताल अउ आँगनबाड़ी मा टीका लगाय जाही। अइसे तो लइका के जनम धरे के पाछू ले डेढ़ बच्छर तक होवत ले…

पूरा पढ़व ..