सेल्फी ले ले

नवा चलागन चले है संगी, जेकर चरित्तर काला बतांव, कोनो बेरा अउ कोनो जघा मैं सेल्फी ले बर नइ भुलांव। छानी में बइठे करीया कउवा के संग में, कचरा फेके के झऊहा के संग में, दारू भट्ठी में पउवा के संग में, चाहे कोनो पकड़ के भले ठठाय, फेर सेल्फी लेय बर नइ भुलाय। चाहे घुमत राहंव मेहा जंगल झाड़ी, चाहे गे राहंव मेहा आंगन बाड़ी, चाहे चलत राहय रेलगाड़ी, मैं पटरी में कट के भले मर जांव, फेर सेल्फी लेय बर नइ भुलांव। तुरते जन्मे टूरा के संग में,…

पूरा पढ़व ..

हमर छत्तीसगढ़

सुआ दरिया तोता मैना हमर छत्तीसगढ़ के पहचान आय मीठ बोली कोयली के तरिया नरवा हमर मान जंगल पसु पक्छी हमर मितान सुग्घर बोली हमर छत्तीसगढ़ी भाखा मया के रस घोलत हे संगी संगवारी के इंहा हे चिन्हारी गाँव म जिनगी सुघ्घर बीतत हे नीम पीपर के छाँव हे अमरैया म किसिम किसिम के पक्छी गाँव के चौपाल गाँव के सियान कतेक सुग्घर हे गाँव विचार मेला ठेला बाजार हाट गाँव के पहचान हमर छत्तीसगढ़ हमर पहचान लक्ष्मी नारायण लहरे “साहिल” गाँव कोसीर जिला रायगढ़ छत्तीसगढ़

पूरा पढ़व ..