आमा के चटनी

आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे,
दू कंऊरा भात ह जादा खवाथे ।
कांचा कांचा आमा ल लोढहा म कुचरथे,
लसुन धनिया डार के मिरचा ल बुरकथे।
चटनी ल देख के लार ह चुचवाथे,
आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे ।
बोरे बासी संग में चाट चाट के खाथे,
बासी ल खा के हिरदय ह जुड़ाथे,
खाथे जे बासी चटनी अब्बड़ मजा पाथे,
आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे।
बगीचा में फरे हे लट लट ले आमा,
टूरा मन देखत हे धरों कामा कामा ।
छुप छुप के चोराय बर बगीचा में जाथे
आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे ।
दाई ह हमर संगी चटनी सुघ्घर बनाथे,
ओकर हाथ के बनाय ह गजब मिठाथे।
कुर संग मा भात ह उत्ता धुर्रा खवाथे
आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे।

महेन्द्र देवांगन माटी
पंडरिया (कवर्धा )
छत्तीसगढ़
8602407353

संघरा-मिंझरा

Leave a Comment