आमा खाव मजा पाव

गरमी के मौसम आते साठ सब झन ला आमा के सुरता आथे।लइका मन ह सरी मंझनिया आमा टोरे ला जाथे , अऊ घर में आ के नून – मिरचा संग खाथे।लइका मन ला आमा चोरा के खाय बर बहुत मजा आथे।मंझनिया होथे तहान आमा बगीचा मा आमा चोराय ला जाथे।
आमा एक प्रकार के रसीला फल होथे।ऐला भारत में फल के राजा बोले जाथे।आमा ला अंग्रेजी में मैंगो कहिथे एकर वैज्ञानिक नाम – मेंगीफेरा हे।

आमा के किसम – आमा भी कई किसम के होथे अउ सबके सुवाद अलग अलग होथे।
जइसे – तोतापरी आमा , सुंदरी आमा , लंगडा आमा , राजापुरी आमा , पैरी अउ बंबइया आमा ।

फल के राजा – आमा ला फल के राजा कहे जाथे ।
आमा ला फल के राजा काबर कहिथे जबकि सबो फल हा स्वास्थ्य वर्धक होथे ।
दरअसल ,भारतीय आमा अपन स्वाद के लिए पूरा दूनिया में मशहूर हे।भारत में मुख्य रूप से 12 किसम के आमा होथे ।

आमा के उपयोग – आमा के उपयोग सिरिफ फल के तौर में नही बल्कि सब्जी , चटनी , पना , जूस , कैंडी , अचार , खटाई, शेक , अमावट (आमा पापड़) अऊ बहुत से खाये – पीये के चीज के सुवाद बढाये बर करे जाथे।

आमा के फायदा – आमा के बहुत से फायदा भी हे ।
जइसे – (1) कैंसर से बचाव – आमा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कोलोन कैंसर , ल्यूकोमिया अऊ प्रोटेस्टेट कैंसर के बचाव में फायदामंद हे ।ऐमा बहुत से तत्व होथे जो कैंसर से बचाव में मददगार होथे।

(2)आख के रौशनी बाढथे – आमा में विटामिन ए भरपूर होथे , जो आॅखी के लिए बरदान हे।
एकर से ऑखी के रोशनी बने रहिथे।

(3) त्वचा बर फायदामंद हे – आमा के गुदा ला
चेहरा मा लगाय से चेहरा में निखार आथे।

(4) पाचन क्रिया ला ठीक रखथे – आमा में कई
प्रकार के एंजाइम होथे जेहा प्रोटीन ला तोड़े
के काम करथे।एकर से खाना जल्दी पच
जाथे।

(5) गरमी से बचाव – गरमी के दिन मा कही
घर से बाहर निकलना रहीथे ता एक गिलास
आमा के पना पी के निकलना चाहिए ।एकर
से लू नइ लगे।

ये परकार से आमा हा बहुत उपयोगी चीज हरे । एला सबझन ला खाना चाहिए अउ मजा लेना चाहिए ।

प्रिया देवांगन “प्रियू”
पंडरिया छत्तीसगढ़
priyadewangan1997@gmail.com

संघरा-मिंझरा

Leave a Comment