अगहन बिरसपति – लक्ष्मी दाई के पूजा अगहन बिरसपति

हमर हिन्दू पंचांग में अगहन महीना के बहुत महत्व हे। कातिक के बाद अगहन मास में गुरुवार के दिन अगहन बिरस्पति के पूजा करे जाथे ।

भगवान बिरस्पति देव के पूजा करे से लक्ष्मी माता ह संगे संग घर में आथे।
वइसे भी भगवान बिरस्पति ल धन अऊ बुद्धि के देवता माने गे हे ।

एकर पूजा करे से लछमी , विदया, संतान अऊ मनवांछित फल के प्राप्ति होथे । परिवार में सुख शांति बने रहिथे । नोनी बाबू के जल्दी बिहाव तको लग जाथे ।

पूजा के विधान – गुरुवार के दिन पूजा ल विधि विधान से करना चाही । ए दिन मुंधरहा ले उठके नहा धो के बिरस्पति देव के पूजा करना चाही। बिरस्पति देव ल पीला रंग के वस्तु ह प्रिय हे ओकरे सेती पीला फूल, पीला मिठई, पीला चावल, चना के दाल अऊ केला के भोग चढ़हाना चाही ।
ए दिन दिनभर में एक बार ही भोजन करना चाही अऊ सच्चे मन से भजन पूजन करना चाही । एकर से बहुत लाभ होथे ।

बिरस्पति देव के कथा – एक गांव में एक गरीब बाम्हन रिहिसे। वोहा पूजा पाठ तो रोज करे फेर वोकर बाई ह निच्चट अढ़ही राहे। वोहा भगवान के पूजा पाठ करबे नइ करत राहे । महराज ह वोला बहुत समझाय फेर वोहा ओकर बात ल टाल दे ।
कुछ समय बाद ओकर घर में एक लड़की पैदा होइस। लड़की बहुत सुंदर अऊ गुनवान रिहिस । जइसे- जइसे लड़की बडे होत गीस ओकर सुंदरता ह बढ़त गीस । जब वोहा इस्कूल जाय के लइक होइस त ओला एक ठन इस्कूल में भरती करवा दिस । वो लड़की ह रोज भगवान के पूजा पाठ करे अऊ इस्कूल जाय । जब वोहा इस्कूल जाय तब अपन हाथ में एक मूठा जौं (जवाँ ) ल धर ले अऊ रस्ता भर छींचत छींचत जाय । इस्कूल ले जब घर वापिस आय त ओ जवाँ ह सोन के बन जाय राहेय वोला सकेलत आय ।सोन के जवाँ आय से ओकर मन के गरीबी ह दूर होगे ।
एक दिन वो लड़की ह जब जौं ल निमारत रिहिस त ओकर पिताजी ह बोलथे – बेटी सोन के जौं ( जंवा ) ल निमारे बर सोन के सूपा होतीस त बढ़िया होतीस ।
तब लड़की ह भगवान बिरस्पति देव से प्राथना करिस अऊ सोना के सूपा मांगीस । दूसर दिन जब वो लड़की इस्कूल से घर आत रिहिस त रस्ता में ओला सोन के सूपा मिलीस ।

एक दिन वो लड़की ह अपन घर में सोना के सूपा में जंवा ल निमारत रिहिसे ओतकी बेरा एक झन राजकुमार ह उही रस्ता से जात रिहिसे । वोहा लड़की के रुप ल देख के मोहित होगे।
घर में आ के राजकुमार ह अपन पिताजी ल बताइस अऊ वो लड़की से बिहाव करे के इच्छा जताइस । तब राजा ह बाम्हन देवता घर जाके लड़की के हाथ मांगीस अऊ खुसी खुसी बिहाव कर दीस ।
लड़की के बिदा होय के बाद धीरे धीरे महराज के घर में फेर गरीबी आ गे । काबर महराजीन के आदत ह सुधरेच नइ रिहिसे। वोहा पूजा पाठ करबे नइ करत रिहिसे।

तब लड़की ह अपन दाई ल समझाइस अऊ बिरस्पति देव के पूजा पाठ करे के विधि विधान बताइस ।
तब महराजीन ह रोज विधि विधान से पूजा करे अऊ धीरे धीरे धन के भंडार भरगे। ओकर गरीबी ह दूर होगे।

बोलो बिरस्पति देव की जय ।

महेन्द्र देवांगन “माटी” (शिक्षक)
गोपीबंद पारा पंडरिया
जिला – कबीरधाम ( छ. ग )
मो.- 8602407353
Email – mahendradewanganmati@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *