परमेश्वर के आसन

गांव-गांव पंचइती, खुलगे बांचे खुल जाही। अइसन सबे गांव हर ओकर, भीतर झटकुन आही।। गांव-गांव पंच चुनाही, भले आदमी चुनिहा। जेहर सबला एक इमान से, थाम्हे घर कस थुनिहा।। गांव के बढ़ती खातिर अब, लंजावर कमती होही। ओतके मिलही सफा बात ये, जउन हर जतका बोंही।। जतके गुर ततके मिठास कस, जउन काम जुरहीं। मिल के काम सबो छुछिंद हो, […]

Continue reading »

चरगोड़िया – छत्तीसगढी़ मुक्तक

(1) भइया नवा जमाना आगे । हमरे करनी हमला खागे । चल थाना म रपट लिखाबो हमर मान मरजाद गँवागे ।। (2) कइसन होगे हमर करम ? कहाँ लुकागे हमर धरम? मोटियारी मन ला नई लागै फुलपेंट म लाज सरम ।। (3) धान होगे बदरा, मितान होगे लवरा, नदिया के पानी घलो, होत हवै डबरा। ओरछा के पानी हा, बरेंडी […]

Continue reading »
1 2