सावन के बरखा

झिमिर झिमिर बरसत हे सावन झड़ी के फुहार ओईरछा छानी चुहन लागे रेला बोहागे धारे धार झुमरत हे रुख पाना डारा उबुक चुबुक होगे खेत खार बईला संग बियासी फंदाय लेंजहा चालय बनिहार मघन होके मंजुर नाचय छांए करिया बादर गरर गरर बिजुरी चमके किसनहा जोतय नांगर बेंगवा नरियाय टरर टरर बरखा गीत गावयं कमरा खुमरी मोरा ओड़े खेत नींदे […]

Continue reading »

सोनहा सावन सम्मारी

सोनहा समे हे सावन सम्मारी, भजय भगद हो भोला भण्डारी। सोनहा समे हे सावन सम्मारी, भजय भगद हो भोला भण्डारी।।…….. नीलकंठ तोर रूप निराला, साँप-डेरू के पहिरे तैं माला। जटा मा गंगा,.माथ मा हे चंदा, अंगरक्खा तोर बघवा छाला।। भूत,परेत, नंदी हे संगवारी। सोनहा समे हे सावन सम्मारी।।१ भजय भगत हो भोला भण्डारी।।……….. कैलासपती तैं अंतरयामी, तीन लोक के तैं […]

Continue reading »
1 2 3 56