कहूं नंदा झिन जावय चिट्ठी के मया, दुलार अउ अगोरा

बिस्व म हरम भारत देस सबले जुन्ना संसकिरीती हे अउ जिहां संसकिरीती हावय उंहा सभियता हावय। अउ जिहां सभियता हावय उंहा लोगनमन के भावना ल दूरिहा म बसे अपन सगे-संबंधी मन ल संदेसा पहुंचाये के बेवस्था रहिस। जेह जईसे-जईसे दिन जात गईसे वईसनहे बदलत गिस। पहिली दूत भेजे के परंपरा रहिस। तेत्राजुग म भगवान राम ह रावन करा माता सिता ल सनमान सहित भेजे बर अउ जुध के नर संहार रोके बर पहिली हनुमान जी ल फेर अंगद जी ल पढोथे। वईसनहे दुआपरजुग म जब किसन भगवान ह गोकुल के…

पूरा पढ़व ..

कोरा तलासत गांधी

मोर देस के हालत बहुतेच खराब हे एक घांव कइसनो करके भारत म फेर जनम धरन दव आनदोलन पुराके तुरते लहुंट जहूं – गांधी गोहनावत रहय। चित्रगुप्त किथे उहां अवइया हजारों बछर बर कोरा के एडवांस बुकिंग चलत हे। कन्हो खाली निये काकरेच कोरा म डारंव ? बरम्हा जी समाधान निकालत किहीन के गांधी जी पिरथी म जाही माने पिरथी के भला होही। एला अपन मन मुताबिक कोरा पसंद करन दे बाकी ल में बना लुहूं। गांधी जी खुस होके पहुंचगे कोरा के तलास म। गांधी सोंचे लागीस येदे बड़े…

पूरा पढ़व ..