देवता मन के देवारी : कारतिक पुन्नी

हमर हिन्दू धरम मा देवी-देवता के इस्थान हा सबले ऊँच हावय। देवी-देवता मन बर हमर आस्था अउ बिसवास के नाँव हरय ए तीज-तिहार, परब अउ उत्सव हा। अइसने एक ठन परब कारतिक पुन्नी हा हरय जेमा अपन देवी-देवता मन के प्रति आस्था ला देखाय के सोनहा मौका मिलथे। हमर हिन्दू धरम मा पुन्नी परब के.बड़ महत्तम हावय। हर बच्छर मा […]

Continue reading »

नान्हे कहिनी – ढुलबेंदरा

कका! एसो काकर सरकार आही ग?’ ‘जेला जनता जिताही तेकरे सरकार आही जी’ ‘तभो ले तोर बिचार म का जमत हे?’ ‘मोर बिचार म तो कन्हो नी जमत हे। जेला भरोसा करके बइठारथन उही हमर गत बिगाड़ देथे।’ ‘फेर एक ठ बात अउ पूछना रिहिस कका?” “पूछ रे भई! आ मोर पीठ म बैताल असन लटक जा।” ‘ते नराज होगेस […]

Continue reading »
1 2 3 49