सार छंद

हरियर लुगरा पहिर ओढ़ के, आये हवै हरेली। खुशी छाय हे सबो मुड़ा मा, बढ़े मया बरपेली। रिचरिच रिचरिच बाजे गेंड़ी, फुगड़ी खो खो माते। खुडुवा खेले फेंके नरियर, होय मया के बाते। भिरभिर भिरभिर भागत हावय, बैंहा जोर सहेली। हरियर लुगरा पहिर ओढ़ के, आये हवै हरेली—-। सावन मास अमावस के दिन,बइगा मंतर मारे। नीम डार मुँहटा मा खोंचे, दया मया मिल गारे। घंटी बाजै शंख सुनावय, कुटिया लगे हवेली। हरियर लुगरा पहिर ओढ़ के, आये हवै हरेली-। चन्दन बन्दन पान सुपारी, धरके माई पीला। टँगिया बसुला नाँगर पूजय,…

पूरा पढ़व ..

कस्तूरी – छत्तीसगढ़ के हरियर चाँउर

छत्तीसगढ़ के हरियर चाँउर, होथे सबले बढ़िया एखर बारे मा नइ जाने, सब्बो छत्तीसगढ़िया ।। दुरुग अउर धमतरी जिला मा, एखर खेती होथे फेर अभी कमती किसान मन, एखर बीजा बोथे।। सन् इकहत्तर मा खोजिन अउ नाम रखिन कस्तूरी छत्तीसगढ़ महतारी के ये, हावय हरियर चूरी।। वैज्ञानिक मन शोध करत हें, कइसे बाढ़े खेती कस्तूरी के फसल दिखय बस, जेती जाबो तेती।। हर किसान ला मिलै फायदा, ज्यादा मनखे खावँय छत्तीसगढ़ के कस्तूरी के, गुन दुनिया मा गावँय।। ग्लुटेन एमा नइ चिटिको, रखे वजन साधारण कैंसर के प्रतिरोधक क्षमता, क्लोरोफिल…

पूरा पढ़व ..