सरसती वंदना

वीणा बजईया सरसती मंईयाँ..2
मोला तार लेना ओ…
तोरे चरण मं आऐ हंव दाई
मोला गियान देना ओ…2

कोंदा लेड़गा तोर चरण मं आके,
सुर मं सुर मिलाये ओ
गईया बछरू तोर मयां ला पाके,
मंईयाँ-मंईयाँ रम्भाऐ ओ
:-गीयान देवईया सरसती मंईयाँ..2
मोला उबार लेना ओ…
तोरे चरण मं आऐ हंव दाई
गियान देना ओ…2

चिरई-चिरगुण सातो सुर ला पाके,
मंईयाँ-मंईयाँ गोहराऐ ओ
सुआ पंड़की कोईली परेवना,
महिमा ला तोर बखाने ओ
:-बुद्धि देवईया वीणा बजईया..2
मोला तार लेना ओ…
तोरे चरण मं आऐ हंव दाई,
मोला गियान देना ओ…2

बड़े-बड़े गियानी धियानी ला,
दाई तँय हर तारे ओ
गोकुल ला देदे गियान ओ दाई,
चरण शरण गोहराऐ ओ
:-चरण मं मांथ नवाये हंव मंईयाँ..2
मोला तार लेना ओ…
तोरे चरण मं आऐ हंव दाई
मोला गियान देना ओ…2

गोकुल राम साहू
धुरसा-राजिम(घटारानी)
जिला-गरियाबंद(छत्तीसगढ़)
मों.9009047156

संघरा-मिंझरा

Leave a Comment