छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन सम्‍पन्‍न

छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन के उदघाट्न समारोह 19 जनवरी के दिन बेमेतरा छत्तीसगढ़ म सम्पन्न होइस। ए समारोह के माई पहुना माननीय श्री दयालदास बघेल संस्कृति मंत्री छत्तीसगढ़ शासन, अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक आयोग के अध्यक्ष, खास सगा श्री अवधेश चंदेल विधायक बेमेतरा, श्री सुरजीत नवदीप अउ श्री गणेश सोनी सदस्य आयोग, श्री राजेंद्र शर्मा जिला भाजपा अध्यक्ष, श्री नीलू शर्मा अध्यक्ष भंडार निगम अउ संचालन डॉ सुरेंद्र दुबे सचिव आयोग करीन।

नेवताय पहुना मन छत्तीसगढ़ी भाखा ल आघु बढ़ाय बर उदीम करइया मन के सम्मान करीन जेमा डॉ. जी. डी. शर्मा कुलपति बिलासपुर विवि, डॉ. बंश गोपाल सिंह, कुलपति पं. सुन्दरलाल शर्मा मुक्त विवि, श्री मंगल नसीम वरिष्ठ साहित्यकार दिल्ली, श्री विक्रम सिंह राजभाषा अधिकारी द.पू.म.रेलवे, श्री संजीव तिवारी साहित्यकार दुर्ग, श्री शरद यादव साहित्यकार सीपत, श्री व्योम वत्स दिल्ली रहीन।

एखर बाद पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम म आयोग दुआरा प्रकाशित डॉ. विनय कुमार पाठक के लोक व्यवहार अउ कार्यालयीन छत्तीसगढ़ी, डॉ. जे. आर. सोनी के सतनाम रहस्य, छत्तीसगढ़ी राजभाषा विशेषांक के संगे संग 60 पुस्तक मन के विमोचन होइस जेमा मुख्य रूप ले श्री राघवेन्द्र दुबे, श्री विवेक तिवारी, श्री निखिल पाठक, डॉ विनोद कुमार वर्मा, डॉ रंजना मिश्रा, श्रीमती लतिका मिश्रा, डॉ बलदाऊ प्रसाद निर्मलकर, श्रीमती विंध्यवासिनी दुबे, श्रीनिवास राव, डॉ. गीता तिवारी, डॉ. प्रदीप निर्णेजक, श्री नरेंद्र कौशिक, श्रीमती सुषमा पाठक, श्री गणेशराम राजपूत रहिन।

संझा छत्तीसगढ़ी कवि सम्मेलन होइस जेन बिहनिया 5 बजे तक चलीस एखर संचालन श्री पद्मलोचन शर्मा, श्री विवेक तिवारी, श्री अजय अमृतांशु, श्री काशीपुरी कुंदन, श्री अशोक आकाश, श्री संतोष कश्यप, श्री राजेंद्र पाटकर, श्री दिनेश गौतम, श्री किशोर तिवारी, श्री रामानंद त्रिपाठी, श्री अजय शर्मा मन करीन ए मउका म पधारे श्री कौशल साहू, श्री अनूप श्रीवास्तव, श्रीमती वसंती वर्मा, श्रीमती रश्मि गुप्ता समेत जम्मो कवि मन अपन प्रस्तुति दिहिन।




छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन बेमेतरा छत्तीसगढ़ के दूसर दिन 20 जनवरी के समारोह म् माई पहुना माननीय श्री पुन्नूलाल मोहले मंत्री छत्तीसगढ़ शासन अउ डॉ विनय कुमार पाठक अध्यक्ष राजभाषा आयोग के अध्यक्षता अउ खास सगा श्री अवधेश चंदेल विधायक के गरिमामय उपस्तिथि म् सम्पन्न होइस । जेमा 4 सत्र म् चर्चा गोष्ठी होइस। पहिली सत्र “छत्तीसगढ़ी साहित्य म् महिला साहित्यकार मन के भूमिका” जेखर अध्यक्षता डॉ सत्यभामा आडिल, संचालन श्रीमती शकुंतला शर्मा अउ वक्ता डॉ अनुसूइया अग्रवाल, डॉ मृणालिका ओझा, डॉ हंसा शुक्ला, डॉ निरुपमा शर्मा, डॉ संध्यारानी शुक्ला, डॉ विद्यावती चंद्राकर, श्रीमती सरला शर्मा, श्रीमती तुलसी तिवारी, श्रीमती शशि दुबे, श्रीमती सुधा शर्मा, श्रीमती शोभा श्रीवास्तव, डॉ सुनीता मिश्रा रहीन ।

जम्मो वक्ता मन सार्थक चरचा करीन अउ आभार प्रदर्शन श्रीमती सुषमा शर्मा करिस। एखर बाद दूसर सत्र के विषय “लोक व्यवहार अउ प्रशासकीय कामकाज म् राजभाषा छत्तीसगढ़ी” के अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक, संचालन श्री राहुल सिंह वक्ता श्री राघवेन्द्र दुबे, डॉ सुधीर शर्मा, डॉ विनोद कुमार वर्मा अउ श्री बी रघु रहीन । ए सत्र म छत्तीसगढ़ी ल राजभाषा के रूप म् कइसे प्रयोग म् लाये जावय एखर उपर वक्ता मन अपन विचार रखिन। तीसर सत्र म् “मंचीय काव्य म् छत्तीसगढ़ी के प्रभाव अउ महत्व” विषय उपर अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक, संचालन डॉ सुरेंद्र दुबे, वक्ता श्री सुरजीत नवदीप, डॉ पी सी लाल यादव, श्री केदार परिहार, श्री मोहित वर्मा रहिन। एखर बाद चौथा सत्र म् चरचा के विषय “डॉ विमल कुमार पाठक के व्यक्तित्व,कृतित्व अउ योगदान” रहीस सत्र के अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक, संचालन डॉ सुरेंद्र दुबे अउ वक्ता डॉ नन्द किशोर तिवारी, श्री राघवेन्द्र दुबे, श्री निखिल पाठक रहीन।

ए मउका म् बेमेतरा आयोजन समिति के श्री अजय शर्मा, रामानंद त्रिपाठी, गजानंद शर्मा, निशा चौबे, सुषमा शर्मा, भारती सिंह अउ संगवारी मन संग श्री विनोद पाठक अउ श्री विवेक तिवारी रहीन।



छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन बेमेतरा छत्तीसगढ़ के तीसर दिन 21 जनवरी के समारोह म चरचा के सत्र रहीस जेमा “छत्तीसगढ़ी म् अनुवाद परंपरा, प्रयोग अउ महत्व” विषय उपर चरचा करे गइस जेमा माई पहुना डॉ विनय कुमार पाठक अध्यक्ष राजभाषा आयोग, डॉ परदेशी राम वर्मा के अध्यक्षता, ख़ास श्री नरेंद्र कौशिक के संचालन रहीस अउ खास सगा श्री सुरजीत नवदीप, श्री गणेश सोनी प्रतीक सदस्य आयोग अउ श्री गणेश कौशिक, वक्ता डॉ दादुलाल जोशी, डॉ सोमनाथ यादव, डॉ सन्तराम देशमुख रहीन। जम्मो झन छत्तीसगढ़ी अनुवाद ल अउ कइसे सम्पन्न बनाय जाय ओखर उपर अपन विचार रखीन।

एखर बाद “खुला सत्र” के आयोजन होइस जेखर अध्यक्षता डॉ जे आर सोनी अउ संचालन श्री पद्मलोचन शर्मा ‘मुँहफट’ करीन, ए सत्र म जम्मो जुरियाये साहित्यकार मन अपन – अपन सुझाव अउ आयोजन के बारे म् अपन विचार ल रखीन। एखर बाद समापन सत्र होइस जेमा आयोग के अध्यक्ष डॉ विनय कुमार पाठक अपन विचार रखिन अउ विधिवत समापन के घोषणा करीन, खास सगा अवधेश चंदेल विधायक बेमेतरा रहीन, ए आयोजन ल सफल बनाय बर पधारे जम्मो अतिथी अउ साहित्यकार मन के आभार आयोग के सचिव डॉ सुरेंद्र दुबे करीन अउ इही तरा मया दया बनाए रखे के संग अउ आखिर म् गीतकार मीर अली मीर के गाये वन्देमातरम् ले छत्तीसगढ़ी के महाकुम्भ के समापन होइस।

ए महाकुम्भ ल सफल बनाय म बेमेतरा के आयोजन समिति के अध्यक्ष अजय शर्मा, संयोजक रामानन्द त्रिपाठी, डॉ राजेंद्र पाटकर, गौरी शंकर बाघ, जगदीश सोनी, गजानंद शर्मा, रामकुमार टंडन, गिरधारी देवांगन, सुषमा शर्मा, निशा चौबे, भारती सिंह अउ संगवारी मन के संग विवेक तिवारी अउ आयोग के अधिकारी कर्मचारी मन रहीन।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”ये रचना ला सुनव”]



संघरा-मिंझरा

Leave a Comment