सिक्छा ऊपर भारी पड़े हे अंधबिस्वास

विकसित होत गांव-सहर म जतना तेजी ले सिक्छा ह आघु नई बढहे हे, तेखर ले जादा तेजी ले अंधबिस्वास के विकास होईस हे। सबले जादा हमर भारत देस म अंधबिस्वास के मानने वाला मनखे मन हवय। ओहु म अंधबिस्वास ल माने म अनपढ़ मनखे मन ले जादा पढ़े-लिखे मनखे मन मानथे।
अउ बाबा-बइगा मनके झांसा म आके अपन बिसवास ल गवां डारथे। जुन्ना बेरा म जब मनखे मन मेर कुछु साधन बनेले नइ रहिस हे तब ग्यानी बाबा बइगा मनके तीर जाके ग्यान के बात सीखे ल मिलये, लेकिन अभी के बेरा म कई झन येला धंधा बना लेहे अउ मनखे मन ल ठगत हे, अभी सब जगह पढ़ाई-लिखाई के महत्व ह बाढ़ गेहे सब्बो घर म कोनो न कोनो पढ़े लिखे मनखे मिल जाहि।



डॉक्टर मन जगह-जगह गांव मन म इलाज करत हे अस्पताल खुलत हे, तभो ले अंधबिस्वास ह अभी तक अपन पईठ ला जमाके रखे हे अउ मनखे मन येखर चक्कर म आ जाथे। कईठन गांव सहर म टोना जादू के बारे मे सुने ल मिल जाही। मनखे मन अपन ऊपर बिसवास नई करके जादू टोना म जादा बिसवास करथे। यही म एक टोना जेन ह अब्बड़ जुनना हवाये। कइथे की करिया बिलई ह कोनो
मनखे के रददा ले रेंग देथें त मनखे के दिन ह खराब हो जाथे। अब आपे मन गुनव वो बिचारि बिलई ह पढ़े लिखे थोड़ी हे जेन ल रददा रेंगे बर हरा लाइट जरे के अगोरा करहि, इहा तो सहर के रददा म गाड़ी मोटर चलाइया मनखे मन सिग्लन के लाइट के अगोरा नइ कराये, अउ अपन जीव ल जोखिम म डाल देथे। फेर अइसने म जानवर मन कहा ले ये सब कर सकही। अउ ओ बिचारि बिलई ह काखरो दिन ल खराब करही मनखे के डर ले ओहु ह मनखे ले दुरिहा भागथे, अपन जीव ल बचाये बर। तभो ले मनखे मनके टोना जादू म बिसवास करथे अउ अपन सागा संबंधी ल घलोक बताथे।
येहि टोना जादू के कारन कई मनखे मन एक दूसर के ऊपर बिसवास नइ करय अउ अंधबिस्वास ल बढावा देथे। कोखरो घर म कुछु बुरा होथे त ओखर ऊपर बिस्वास हाल जाथे, अउ जहा बिस्वास ह डोलिस उहा अंधबिस्वास ह अपन कब्जा जमा लेथे, त आज के शिकछित होत बेरा म ये सब मन ले मनखे मन ल दुरिहा रहिना चाही।।
जय जोहार जय छत्तीसगढ़
 
अनिल कुमार पाली, तारबाहर बिलासपुर छत्तीसगढ़
प्रशिक्षण अधिकारी आईटीआई मगरलोड धमतरी।
मो.न.-7722906664,7987766416



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *