छत्तीसगढी उपन्यास : भुइयाँ

लेखक – रामनाथ साहू
प्रकाशक – वैभव प्रकाशन, अमीन पारा चौक, पुरानी बस्ती, रायपुर- 492001 (छत्तीसगढ़)
दूरभाष : 0771-4038958 मोबाइल : 094253 58748
मुद्रक : वैभव प्रकाशन, रायपुर (छत्तीसगढ़)
मूल्य : 100 रू.
ISBN : 81 -89244-03-05
( भूमि : ज़मीं : The Land)
छत्तीसगढी राजभाषा आयोग, रायपुर से प्राप्त आर्थिक सहयोग से प्रकाशित

समर्पण
छत्तीसगढ के ‘लोक सुर’ लक्ष्मण मस्तुरिया अउ आन जम्मो छोटे-बडे़ लोक गायक, संगीतकार मन ला जेमन के नाद-बरम्ह हर मोला सदाकाल ले आनंदित करत हावे।

साभार
छत्तीसगढी लोकाक्षर (संपादक श्री नन्द किशोर तिवारी) ला जेहर ये उपन्यास ल अपन जनवरी-मार्च, 2009 अंक-44 बना के छापे रहिस ये सिरिस्टी म सबले बड़का हे अगास…। अगास ले छोट हे हमर मन्दाकिनी हमर सौरमंडल सूरुज हमर पिरथवी। पिरथवी म जल अउ थल भूईयां अउ पानी। पानी से थोर हे… पानी ले कम हे… भृइयां, भूईयां म रचाय सहर नगर… वन डोंगरी नाना विध के रचना एमन के बीच संकेलात खियात अन्न उपजईया खेती के भुईयां। चार आंगुर पेट भरे बर दू आंगुर भूईयां तो बांचे…राम ! खेती के भूईयां सब ले अनमोल… ! येकर मोल? सब ले अनमोल !!





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *