फांदा मा परगे किसानी

फांदा मा परगे किसानी
नुन मिरचा अउ बासी भात
सुते नई हंव कतको रात
खेती नई हे बहुत असानी
फांदा मा परगे किसानी

रगड के हमन बुता करेन
बुता करके बिमार परेन
ए बछर काबर बरसत नई हे पानी
फांदा मा परगे किसानी

कोन समझ ही पीरा ला
कइसे भगई धान के कीरा ला
हमर ले होगे नदानी
फांदा मा परगे किसानी

किसानी होगे दुखदाई
फलत फुलत हे रूखराई
सावन के होगे मनमानी
फांदा मा परगे किसानी

मुड धरके बइठे हन
भुख मा हमन अइठे हन
पीरा हरा दुर्गा रानी
फांदा मा परगे किसानी

कोमल यादव
मदनपुर खरसिया
9977562133

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *