One comment

  • jojwagautam

    बड़ सुघ्घर सकेलन हवय पढ़े म अंतस ले भेद गिस मन मतंग होगे अंतस ले भेद गिस लयिकाई म बाबा के सुनाय किस्सा के सुरता आगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *