गरमी के दिन आगे

गरमी के दिन आगे संगी , मचगे हाहाकार ।
तरिया नदियाँ सबो सुखागे , टुटगे पानी धार ।।

चिरई चिरगुन भटकत अब्बड़ , खोजत हावय छाँव ।
डारा पाना जम्मो झरगे , काँहा पावँव ठाँव ।।

तीपत अब्बड़ धरती दाई , जरथे चटचट पाँव ।
बिन पनही के कइसे रेंगव , जावँव कइसे गाँव ।।

बूँद बूँद पानी बर तरसे , कइसे बुझही प्यास ।
जगा जगा मा बोर खना के , करदिस सत्यानास ।।

बोर कुवाँ जम्मो सुख गेहे , धर के बइठे माथ ।
तँही बचाबे प्राण सबो के, जय जय भोलेनाथ ।।

कु. प्रिया देवांगन “प्रियू”
पंडरिया (कवर्धा)
छत्तीसगढ़
priyadewangan1997@gmail.com

संघरा-मिंझरा

Leave a Comment