गाँव रहिस सुग्घर, अब शहर होगे

बोली अउ भाखा हर जहर होगे,
गाँव रहिस सुग्घर, अब शहर होगे।

दिनो -दिन बाढ़त हे मंहगाई हर,
मुश्किल अब्बड़ गुजर-बसर होगे।

बैरी बनगे भाई के अब भाई हर,
लागत हे, चुनई के गजब असर होगे।

बलदाऊ राम साहू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *