अब तो किरपा कर राम

Kishor Tiwariबनगे छतीसगढ़ धाम, अब तो किरपा कर राम ।।
तोर ममा गोते हा राज बनगे।

कभू सोचे नइ रहे होबे, वो आज बनगे ।।
सब जुरमिल के, लड-जूझ के राज बनाइन
पहिलिच बरिस पानी बर बसाये तय।
सब सुम्मत-सुकाल बर हाथ लमाइन,
पहिलिथ बरिस धान कटोरा रिताये तय।
अब दाना-दाना हर हमर लाज बनगे ।1।
तोर ममा …

कहाँ लिखे भाग हमर पेज अउ सीथा,
के लिखे हमर भाग सिरिफ मूख-पियास ला ।
कहां लिखे भाग हमर देस मा डेरा,
के लिखे हमर माग सिरिफ बनबास ला ।
पेट बिकाली मा घुमइ हमर काज बनगे ।2।
तीर ममा …

चिख-चिख के सबरी हा बोइर खवाइस,
का भूलागे तैंहा सिवरीनरायेन ।
दंडक बन घूमे धात झूझंकुर-झूझंकुर,
का भूलाने तेहा अपन रमायन ।
का सुरता तोर भूलाने दूबराज अन्न के ।3।
तोर ममा …

किशोर कुमार तिवारी
भिलाई नगर ( 2000 में लिखे कविता)

Related posts:

Leave a Reply