लमसेना प्रथा चालू करव

आज मँय एक ठन अलकरहा गोठ करेबर जात हँव। आजकल हमर देस, प्रांत सबो डहर एकेच गोठ सुनेबर मिलथँय कि बहूमन अपन सास ससुर ला अबड़ तपथँय दुख देथँय। एहा समाजिक समस्या बनत जावत हावय। सास ससुर मन सियान होय के पाछू जब कुछु कमाय नइ सकय पइसा कउड़ी के आवक बंद हो जाथय, तब बहू मन के टेचरही गोठ सियानमन बर पहाड़ हो जाथय।कतको घर तो एक एक टिकली बर तरसथे। बड़हरमन तो वृद्धाश्रम भेज देथय। एकर इलाजबर जुन्ना दवई माने लमसेना लाय के परथा ला शुरू करे जाय। काबर कि देखे सुने मा आथय कि बेटीमन अपन दाई ददा के दुख तकलीफ ला देख के सहीच नइ सकय अउ भाई भउजी ला गारी बखाना करथँय। दूसर ये कि बेटीमन दाई ददा ला बड़ मया करथे भले सास ससुर ला कतको तपय। ए समस्या के एकेच समाधान हे लमसेना लाना।

लमसेना लाने के परथा ले समाज के दू ठन समस्या हा दुरिहा हो जही। एक तो बेटी बचाव बेटी पढ़ाव ला बल मिलही अउ दूसर ये की कोनों जगा सियान मन ला दुख तकलीफ नइ मिलही। लमसेना ला घरजियाँ घलाव कहे जाथे। बेटीमन अपन दाई ददा के सुग्घर सेवा करही ता बहूमन के उपर ले सास ससुर के हिनमान अउ दुख देय के बोझा उतर जही। अब तो हमर देश के कानून, संविधान हा बेटीमन ला बँटवारा देय के अधिकार दे हवय ता दाई ददा ला पाले पोसेबर घलाव कोनों परकार के रोकछेक नइ करय। अइसे दमाँद मनके ससुरार मा जादा बिरोध नइ रहय। ललचहा अउ मँदहा दमाँद ले दू तीन प्रतिशत मन हा दुखी होही फेर बहू के संग देवइया बेटा ले नब्बे प्रतिशत मन दुखी हावय। एकर सेती लमसेना लाय से सब सासमन ला बहू के दुख देवई ले अउ बहूमन ला सास के तपई ले मुक्ति मिल जही। कहे जाथे मनखे ला देस काल परिस्थिति के संग रेंगना चाही।

आज सास बहू के जगा महतारी बेटी संग राखे के परथा शुरू करे के जरुरत हावय। नब्बे प्रतिशत ले जादा घर आज मंदिर नइ रहिगे। बेटी लक्ष्मी होथय ता ओला महतारी के संग राखय। सासमन लक्ष्मी के मानगउन नई करे एखर सेती हर घर मा लड़ई झगरा माते रहिथे। हर जाति समाज मा घलाव एखर बर गोठबात होना चाही। बेटी मन दू कुल ला तारथे फेर समाज मा अइसन कम दिखते। एक कुल ले टरथे।दूसर कुल मा आके टारथे। मइके मा झगरा लड़ाथँय अउ ससुरार मा झगरा करथँय। लमसेना राय से माइके अउ ससुरार के मया बाढ़ही। दू चार दिन बर आय बहू के, सास हा , ननद डेढ़सास हा मानगउन करही। बहू घलाव उँखर मन संग मइके के दुख सुख ला बाँटही। दूनो परिवार मा मया बाढ़ही। समाज मा नवा संदेश जाही।

हीरालाल गुरुजी “समय”
छुरा, जिला-गरियाबंद

संघरा-मिंझरा

Leave a Comment