तुंहर मन म का हे

तुंहर मन म का हे
अपन अंतस ल बोल दव
मोर मन के गोठ ल सुन लव
अभी तो मान लव
जो हे बात हांस के कही दव
जिनगी के मया म रस घोल दव
अभी तो बदलाव कर दव
महुँ हंव किनारा म
मझधार ल पार करा दव
मया के गोठ
हांस के बता दव…

लक्ष्मी नारायण लहरे ,साहिल,
कोसीर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *