छत्तीसगढ़ के दू साहसी लईका मन के राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार खातिर चयन

प्रधानमंत्री श्री मोदी गणतंत्र दिवस समारोह म करहीं सम्मानित




रायपुर, 09 जनवरी 2017! प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी आगामी 26 जनवरी को नई दिल्ली म आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह म छत्तीसगढ़ के दू बहादुर लईका मन ल राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2016 ले सम्मानित करहीं। जेमा बेमेतरा जिला के ग्राम हरदी के श्री तुषार वर्मा अउ ग्राम मुजगहन, पोस्ट लोहरसी के कुमारी नीलम ध्रुव शामिल हें। ये लइका मन ल उंखर हिम्‍मती काम खातिर सम्मानित करे जाही। छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद कोति ले छत्तीसगढ़ के पांच लईका मन के प्रस्ताव राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार खातिर भेजे गए रहिस। तेमा ले इन दू लईका के चयन ये पुरस्कार खातिर होए हे।

तुषार वर्मा – ग्राम हरदी, पोस्ट भिभोरी तहसील बेरला, जिला बेमेतरा
भूलूराम वर्मा के घर के पाछू कोठा म रात के लगभग 9 बजे मच्छर भगाए खातिर जलाए छेना ले आगी लग गए। घर म केवल दू सियान मनखे रख्हत रहिन। सियान श्री भूलूराम वर्मा ह जइसे कोठा के ऊपर आग जलत देखीस वो ह जोर-जोर से चिल्लाए लागिस। कोठा के ऊपर दू गाड़ी पैरा अउ भूसा घलव रखे रहिस। कोठा म तीन गाय अउ दू बईला बंधाए रहिस। भुलूराम के आवाज सुनके परोसी मन दौड़के ओकर घर अइन। उहें तीर म रहवईया डोगेश्वर वर्मा के 15 बछर के बेटा तुषार वर्मा अपन घर म खाना खावत रहिस। आग-आग के आवाज सुनके तुषार वर्मा खाना छोड़के घर ले बाहर निकलीस अउ आग लगे घर म दौड़के पहुंच गए। उहां परोसी अपन-अपन घर ले पानी ला-ला के आगी बुझाए के उदीम करत रहिन। बालक तुषार तुरते कोनो तरा ले कोठा के ऊपर चढ़के खल्‍हे परोसी मन ले पानी झोंक-झोंक के आगी बुताये के उदीम करे लगिस। आग के लपट तेज होए के कारण वोला बड़ तकलीफ घलव होए लगिस, फेर वो ह हिम्‍मत नइ हारिस अउ आगी बुताए म लगे रहिस। जब तक कोठा के ऊपर बांस-बल्‍ली मन म लगे आगी बुता नई गीस, तब तक ले वो ह रतिहा 11 बजे तक आगी बुताये म लगे रहिस। गांव वाले मन के सहायता ले कोठा के नीचे बंधे मवेशी मन ल बाहिर निकाले गीस। ये घटना म बालक तुषार आगी ले झुलस तको गए। तुषार के प्राथमिक उपचार कराए गीस।




कुमारी नीलम ध्रुव – ग्राम मुजगहन
19 मई 2016 को अपन सहेली कुमारी टिकेश्वरी ध्रुव के सेग गांव के शीतला तालाब म नहावत रहीस। उही समय म टिकेश्वरी ध्रुव के पांव बिछले के कारण वो ह तालाब के गहीर पानी म चले गए अउ बूड़े लगीस। टिकेश्वरी ल तालाब म डूबत देख के कुमारी नीलम ह अपन जान के परवाह करे बिना वोला बचाए बर तालाब म कूद परिस। अड़बड़ उदीम के पाछू वो ह टिकेश्वरी के मूड़ी के चूंदी ल धरके खींचत तालाब ले बाहिर निकालीस। नीलम के बहादुरी ले वोकर सहेली के जान बांच गए।

एकर पहिली छत्‍तीसगढ़ के चार हिम्‍मती लईका मन ल राज्‍य शासन कति ले राज्‍य गीरता पुरस्‍कार के घोषणा होए हे। वो लईका मन के हिम्‍मत के कहानी ये दे जघा म हवय – http://www.gurturgoth.com/chhattisgarh-rajya-bal-virata-purskar/

Related posts:

Leave a Reply