पाठ्यक्रम म छत्तीसगढ़ी – आंदोलन के जरूरत …..

अजय अमृतांशु

प्राईमरी (कक्षा पहली ले पॉचवी) तक महतारी भाखा छत्तीसगढ़ी म पढई काबर नइ होत हे? ये दाहकत सवाल हमर बीच हवय। येखर पीरा तो जम्मो छत्तीसढिया मन ल हवय फेर सब ले जादा पीरा साहितकार मन ल हवय। अउ होही काबर नहीं? साहितकार बुद्धिजीवी वर्ग आय, भाखा के संवर्धन अउ क्रियान्वयन के सब ले बडे जिम्मेदारी साहितकार मन के होथे। आखिर का वजह हे कि छत्तीसगढ़ी म पढई लिखई ल पाठ्यक्रम म लागू नइ करे जात हे? पाठ्यक्रम म लागू करना अउ नइ करना पूर्ण रूप ले राजनीतिक गोठ आय। सरकार चाहय तो काली पाठ्यक्रम म लागू हो जाय फेर सरकार नइ चाहय काबर कि येखर ले उन ल कोनो जादा राजनीतिक लाभ तो होना नइ हे। येकर सेती सरकार ह येला लागू करे बर चिटकुन गंभीर नइ हे। अइसने बात विपक्ष के हवय विपक्षी मन घलो कभू भी छत्तीसगढ़ी ल प्रायमरी तक के शिक्षा म लागू करे बर कोनो मेर बात नइ उठाय हें काबर उहू ल कोनो जादा फायदा ये मुद्दा म मिलही अइसन नइ दिखत हे।




अब सवाल ये हे कि सरकार ल कइसे मजबूर करे जाय? कि छत्तीसगढ़ी ह प्रायमरी स्तर तक लागू हो जाय। हमन घेरी-भेरी राजभाषा आयोग डहर देखथन अउ आस लगाय रहिथन कि आयोग ह सरकार ल मजबूर करही। हम ये काबर नइ सोच सकन कि आयोग ह घलो सरकार के अंग आय अउ सरकार के अधीनस्‍थ काम करथे। आयोग ह सरकार ल केवल सुझाव दे सकथे अउ निवेदन कर सकथे येकर ले जादा आयोग ह कुछु नइ कर सकय। आयोग ह सरकार ल न तो आदेश दे सकय अउ न मजबूर कर सकय कि सरकार ह छत्तीसगढ़ी ल पाठ्यक्रम म लागू करय। येकर सेती आयोग से हम जादा उम्मीद नइ कर सकन। तब ये समस्या के हल का हे …?

ये समस्या के एके ठिन हल अउ रस्ता दिखथे वो रस्ता हे आंदोलन के। जम्मो साहितकार वरिष्ठ अउ कनिष्ठ एक जघा, एक मंच के तरी सकलाव अउ आंदोलन के रूपरेखा तय करव। नवोदित साहितकार के संगे संग एम.ए. छत्तीसगढ़ी करइया युवा अउ छत्तीसगढ़ी के लोक कलाकार मन ल घलो ए आंदोलन म सामिल करव। सबो झिन मिल के एक मजबूत संगठन तैयार करके आंदोलन के रूपरेखा के रूपरेखा तय करव। पहिली सरकार ल सांकेतिक रूप से चेतावनी दव, ओकर बाद धरना, प्रदर्शन फेर आंदोलन करे जाय। हमर बात ल नइ मानही तब तक क्रमिक भूख हडताल अउ अन्त म आमरण अनशन म घलो बइठे जाय। जब सबो झिन जुरमिल के ये कदम उठाबो तब कहूँ सरकार ह अपन कुंभकर्णी नींद ले जागही। जेन दिन सरकार ल ये अहसास हो जाही कि अब छत्तीसगढ़ी ल पाठ्यक्रम म सामिल नइ करबो त स्थिति ह विस्फोटक हो जाही तब उंकर आँखी खुलही। यदि हम साहितकार मन ही चुपचाप बइठे रहिबों त ये आवाज ल उठाय बर कोन आही ..? कोनो नइ आय। कोनो ल अतका फुरसत नइ हे छत्तीसगढ़ी के बारे म सोंचे के अइसन म छत्तीसगढ़ी ल पाठ्यक्रम म सामिल करे बर बेरा ले कूबेरा हो जाही।




अगर शांति पूर्ण आंदोलन के अवहेलना करे जाही त स्थिति ह विस्फोटक घलो हो सकथे। आंदोलन के एक हिस्सा येहू तय होय कि हम जम्मो साहितकार नेता मन ल ये बात के अहसास देवावन कि जेन नेता विधानसभा अउ मंत्रालय म छत्तीसगढ़ी म नइ बोलही वोला ये दरी जनता ह वोला वोट नइ देवय। कम से कम विधान सभा म सवाल अउ जवाब तो छत्तीसगढ़ी म करे जा सकथे। जब तक इन नेता मन छत्तीसगढ़ी म गोठ-बात नइ करही तब तक सरकारी करमचारी मन घलो छत्तीसगढ़ी बोलय अउ न ही पाठ्यक्रम म येकर क्रियान्वयन करय। छत्तीसगढ़ी ल राजभाषा के दर्जा मिले 9 बछर होगे हे फेर आज तक कोनो नेता मन मंत्रालय या विधानसभा म छत्तीसगढ़ी म नइ गोठियांय। जम्मो साहितकार अउ लोक कलाकार मन अपन-अपन क्षेत्र के नेता, विधायक मंत्री अउ सांसद ल ये बात के अहसास करावय कि विधानसभा म कम से कम गोठ-बात तो छत्तीसगढ़ी करव, खाली चुनाव के बेरा छत्तीसगढ़ी बोले ले काम नइ बनय अउ चुनाव जीतना हे त विधानसभा म घलो छत्तीसगढ़ी बोले ल परही अउ पाठ्यक्रम म घलो सामिल करे बर परही ये बात के अहसास देवाना जरूरी हवय।

आंदोलन बर प्रदेश, जिला, तहसील अउ विकासखण्ड स्तर तक साहितकार अउ लोक कलाकार मन पदाधिकारी अउ कार्यकारिणी के गठन करे जाय संगे-संग हर स्तर मा आंदोलन के जिम्मेदारी सौंपे जाय। हमन बडे-बडे साहित्यिक आयोजन/सम्मेलन तो करथन फेर ये आयोजन म कभू आंदोलन के बात नइ करन। हमर आयोजन ह केवल लेखन, चर्चा अउ परिचर्चा तक ही सीमित रही जाथे। लेखन अपन जघा हवय आंदोलन अपन जघा। आंदोलन बर अब नवा प्लेटफार्म तईयार करे के जरूरत हवय। एक ठिन कहावत हे “बिना रोय तो महतारी घलो लडका ल दूध नइ पीयाय” जब तक हम चिल्लाबों नहीं सरकार ह अपन कुंभकर्णी नींद ले नइ जागय। जब चार झिन बंगाली म अनशन म बइठ के अपन बात ल मनवा सकथे त हमन काबर नहीं? चरण बद्ध तरीका ले जिला अउ प्रदेश स्तर म आंदोलन करे जाय। बात नइ माने के स्थिति म मंत्री तक के घेराव करे जाय तब जाके कहूँ हमर महतारी भाखा छत्तीसगढ़ी ह प्रायमरी म लागू हो पाही।




Related posts:

2 comments

  • चोवा राम "बादल"

    बने बात कहे अमृतांशु जी।शुरुवात हमर साहित्यिक मंच के अध्यक्ष मन एक जगा जुरियाके करय। सुने मा अउ देखे मा आथे।इंहो भाई भतीजा वाद लागू हे। नेता मन ला कतेक दोष देबो। छत्तीसगढ़ी साहित्य सम्मेलन तको मा ज्ञानी साहित्य कार मन ला हिंदी मा भासन देवत देख सुन के करम फूटे सहीं लागथे।
    भगवाने मालिक हे।
    अउ पालक मन का करत हेँ।अंग्रेजी स्कूल मा अपन लइका मन ला भर्ती करत हेँ। उहू मन ला जगाना हे। अइसन आंदोलन में जोड़ना हे तभे महतारी भाखा के कल्यान होही।

  • Pratiksha

    Bane sujhav de hav amritanshuji yema amal hona chahee

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *