रचना भेजईया मन बर गोठ

  • GGगुरतुर गोठ म प्रकाशन करे खातिर हर किसम के छत्तीसगढ़ी रचना मन के स्वागत हावय. अपन अउ अपन रचनाकार संगी मन के रचना मन ला हिन्दी के फ़ॉन्ट कृतिदेव, श्रीलिपि, चाणक्‍य, या कोनो आन फ़ॉन्ट म एमएस वर्ड फ़ाइल के रूप म, फोंट के नाव बतावत ई-मेल ले हमला भेज सकत हावव. रचना एके ठन फोंट म होवय, आने आने फोंट के घेरी बेरी उपयोग झन करव. पूरा पुस्तक कहूं स्कैन कर के भेजना चाहत होहव त पुस्तक ला ३०० ले कम रेजलूसन म लाइनवार पाना एके ठन फाइल म पीडीएफ बना के भेजव. अलग अलग पाना के अलग अलग फाइल बना के भेजे ले पुस्तक के एक पीडीएफ फाइल बनाए म हमला बड़ मेहनत लागथे. रचना मन ला ईमेल ले भेजई नइ हो पावत होवय त कोनो कम्प्यूटर दुकान म टाइप करवा के नइ तो स्कैन कराके ओखर सीडी हमला भेज सकत हावव, सीडी बनवाए के पहिली कम्प्यूटर दुकान वाले ला ये गोठ ला पढ़वा दव त बने बनही. कहूं आप इंहा देहे पाना ले जुन्ना फोंट ले यूनीकोड़ बदल सकव त अउ सुघ्घर बात होही.

    • संगी मन सुरता राखव: गुरतुर गोठ के ये प्रकाशन अवैतनिक अउ अव्यावसायिक करे जात हावय तेखर सेती रचना मन के प्रकाशन के पाछू कउनों मानदेय/रायल्टी देवइ संभव नइ हे. हमर उदीम ये हावय के छत्‍तीसगढ़ी भाषा के रचना मन इंटरनेट के माध्यम ले जन जन बर सुलभ हों जावय. हमर ये उदीम सिरिफ हमर भाषा बर हमर परेम आए, ये सिरतोन आए के ये कउनो बड़का बुता नो हय, ये काम ल तो आपके नौकर चाकर अउ नान्‍हें लोगन मन घलव कर सकत हांवय.

      • इंटरनेट नइ तो अपन ब्लॉग म पहिली ले प्रकाशित रचना मन ला दूबारा गुरतुर गोठ म प्रकाशित करे के कउनो अरथ नइ हे, तेखर सेती आपले गिलौली हावय के अइसन रचना मन ला झन भेजहू.

        • गुरतुर गोठ बर संगी मन के छत्तीसगढी रचना, आडियो, वीडियो के अगोरा हावय, आप अपन रचना के सीडी हमला भेज सकत हावव, सीडी ला आप हमला मेल घलव कर सकत हावव.

          बुधराम यादव, वरिष्ठ संपादक
          संजीव तिवारी, संपादक

          संपादकीय कार्यालय :
          सूर्योदय नगर, खण्डेलवाल कालोनी
          दुर्ग, छत्तीसगढ 491001.

        हिन्‍दी रचनाकार संगी मन, हमर छत्‍तीसगढि़या बड़े भाई रविशंकर श्रीवास्‍तव जी के उदीम रचनाकार म अपन हिन्‍दी रचना भेज सकत हावव.

Related posts: