मोर दाई छत्तीसगढ़

मैं तोर दुःख ल काला बताओ ओ मोर दाई छत्तीसगढ़ तोर माटी के पीरा ल कति पटक के आओ मोर दाई छत्तीसगढ़। कइसन कलपत हे छत्तीसगढ़ीया मन, अपन भाखा ल बगराये बर सुते मनखे ल कइसे मैं नींद ले जगाओ ओ मोर दाई छत्तीसगढ़। मोर भुइँया म नवा अंजोर के आस हे तभो ले छत्तीसगढ़ी भाखा के हाल ह बढ़ बेहाल हे। कई ठन बोली भाखा इहा करत राज हे, छत्तीसगढ़ी भाखा के बने जीके जंजाल हे। छत्तीसगढ़िया अपना महतारी भाखा बर, करत कतका परयास हे, तभो ले समझे नइ…

पूरा पढ़व ..

तभे होही छत्तीसगढ़ी भाखा के विकास

छत्तीसगढ़िया मन ल पहली अपन भाखा ल अपनाये ल लगही तभे होही छत्तीसगढ़ी भाखा के विकास छत्तीसगढ़ म छत्तीसगढ़ी भाखा बर राज भाखा आयोग त बना डारे हे फेर भाखा के विकास बर कुछु काम नइ होइस, अठरा बछर होगे छत्तीसगढ़ राज ल बने तभो ले इहा के छत्तीसगढ़ी भाखा ह जन-जन के भाखा नइ बन सकिस, कतको परयास करत हे जन मानुष मन अपन भाखा ल जगाये के, तभो ले अतना पिछड़े त कोनो भाखा नइ होही जतन छत्तीसगढ़ी भाखा हे, काबर के छत्तीसगढ़ी भाखा ल जतका खतरा परदेशिया…

पूरा पढ़व ..