कल्चर बदल गे

पहिली के जमाना मा साझा-परिवार रहिन। हर परिवार मा सुविधा के कमी रहिस फेर सुख के गंगा बोहावत रहिस। सियान मन के सेवा आखरी साँस तक होवत रहिस।अब कल्चर बदल गे, साझा परिवार टूट गे। सुविधा के कोनो कमी नइये, फेर सुख के नामनिशान नइये। लोगन आभासी सुख के आदी होवत हें। सियान मन वृद्धाश्रम जावत हें। जउन मन वृद्धाश्रम नइ जावत हें, उंकर घर मन वृद्धाश्रम सहीं बन गेहे। ककरो बेटा ऑस्ट्रेलिया मा, ककरो अमेरिका मा, ककरो कनाडा मा, ककरो सिंगापुर मा। अपन जिनगी के सरी सुख ला त्याग…

पूरा पढ़व ..

कस्तूरी – छत्तीसगढ़ के हरियर चाँउर

छत्तीसगढ़ के हरियर चाँउर, होथे सबले बढ़िया एखर बारे मा नइ जाने, सब्बो छत्तीसगढ़िया ।। दुरुग अउर धमतरी जिला मा, एखर खेती होथे फेर अभी कमती किसान मन, एखर बीजा बोथे।। सन् इकहत्तर मा खोजिन अउ नाम रखिन कस्तूरी छत्तीसगढ़ महतारी के ये, हावय हरियर चूरी।। वैज्ञानिक मन शोध करत हें, कइसे बाढ़े खेती कस्तूरी के फसल दिखय बस, जेती जाबो तेती।। हर किसान ला मिलै फायदा, ज्यादा मनखे खावँय छत्तीसगढ़ के कस्तूरी के, गुन दुनिया मा गावँय।। ग्लुटेन एमा नइ चिटिको, रखे वजन साधारण कैंसर के प्रतिरोधक क्षमता, क्लोरोफिल…

पूरा पढ़व ..