राजभासा छत्तीसगढ़ी के फैइलाव बर कोसिस

बर अऊ पीपर के छोटकन बीजा म बड़का बर, अऊ पीपर रूख तियार हाे जाथे वइसने बोलियों हर आय। बोली एक बेरा म छोटकन जघा म बोले जाथे अऊ बोलईया मइनखे मन के संख्या ह बाढ़त चले जाथे, अऊ धीरे-धीरे भासा के रूप ले लेथे। हिन्दी के महतारी अपभ्रंस हर आय वइसनहे छत्तीसगढ़ी के महतारी अर्द्ध मागधी अपभ्रंस आय जेला

Read more