बसंत राघव के छत्‍तीसगढ़ी गज़ल

1 ओखर आंखी म अंजोर हे दया-मया केजिंहा ले रद्दा हे डोर उहां लमाथेउंचहा डारा ले ओहर उडि़स परेवा कसधरती ला छोडि़स त गिरीस बदाक ले ओखर ले दुरिहा के जानेंव मैं सब लसुरता लमिस त भगवान कस जानेवमरहा जान के ओला डेहरी बइठारेंवहांडी-बटकी ले गइस तभे पहिचानेंवफरै ना फूलै कतको डारा ल सींच लेजरी ला सींचबे तभेच सेवाद ला

Read more