मोर भारत भूइयाँ ल परनाम

देस के बीर जवान जेन करिस काम महान, देस के आजादी बर गवाँ दिस परान, अइसन पुन के माटी म धरेंव जनम। मोर भारत भूइयाँ ल परनाम।। धन हे वो कोरा जेमा बीर खेलिस, दूध के करजा ल लहू देके चुकइस बेरा अब आय हे लेके ओखर नाम, मोर भारत भूइयाँ ल परनाम।। अंगरेज मन के कारन हमर जिनगी होगे रहिस हराम, भगतसिंह,गांधी मन के मेहनत के हरय ये परिनाम, वोखरे सेती करत हाबन बेफिकर होके काम। मोर भारत भूइयाँ ल परनाम।। अजादी के बाद समसिया आगे महान, जेकर बाबा…

पूरा पढ़व ..

दारू के गोठ

जेती देखबे तेती, का माहोल बनत हे। सबो कोती ,मुरगा दारू के गोठ चलत हे।। थइली म नइहे फूटी कउड़ी,अउ पारटी मनाही। चांउर ल बेंच के, दारू अउ कुकरी मंगाही।। मुरगा संग दारू ह,आजकाल के खातिरदारी हे। खीर पूड़ी के अब, नइ कोनो पुछाड़ी हे।। दारू के चक्कर म, छोटे बड़े के नाता ल भुलागे। आधा मारबे का कका,कइके मंगलू ह ओधियागे।। नंगत कमाय हे कइके, बेटा बर लानत हे ददा ह। अब तो संगे संग म पीयत हे, कका अउ बबा ह।। होवत संझाती भट्ठी म, भारी भीड़ दिखत…

पूरा पढ़व ..