घटारानी हावे तोर नांव

धसकुड़ मं बिराजे ओ,घटारानी हावे तोर नांव…२ चिरई-चिरगुण चिंव-चाँव करत हे…२ मईयां मईयां रटे नांव…२ धसकुड़ मं बिराजे ओ,घटारानी हावे तोर नांव…२ झरझर-झरझर झरना चलत हे,तोर, तोर अँगना अऊ दुवारी ओ…२ सुर-सुर-सुर-सुर पवन चलत हे, जुड़ चले पुरवाई ओ…२ बघुवा भालू तोर रखवारी करत हे…२ करत हावे हांव-हांव…२ धसकुड़ मं बिराजे ओ,घटारानी हावे तोर नांव…२ हरियर-हरियर रूख राई दिखत हे, […]

Continue reading »

राजिम नगरी

पबरीत हावे राजिम नगरी, परयाग राज कहलाऐ। बिच नदीया में कुलेश्वर बईठे, तोरेच महीमा गाऐ।। महानदी अऊ पईरी सोंढ़हू, कल-कल धारा बोहाऐ। तीनों नदीया के मिलन होगे, तीरबेनी संगम कहाऐ।। ब्रम्हा बिष्णु अऊ शिव संकर, सरग ऊपर ले झांके। बेलाही घाट में लोमश रिषी, सुग्घर धुनी रमाऐ।। राजिव लोचन तोर कोरा मं बईठे, सुग्घर रूप सजाऐ। राजिम के दुलौरिन करमा […]

Continue reading »
1 2