आजादी के गीत

खूने-खून के नदिया बोहाइस, परान छुटत ले लड़े हे। आजाद कराय बर देस ल, दुस्मन संग भिड़े हे। उही लहू के करजा ल, अब चुकाये ल परही। आजादी के गीत ल, मिलके गाये ल परही।।… घर दुवार के मोह छोड़ के, देस के रक्छा करे हे। भारत माँ के लाज बर, आगी अँगरा म जरे हे। जग ल अँजोर करइया बर, एक दीया जलाये ल परही। आजादी के गीत ल, मिलके गाये ल परही।।… जवान मन के बल देख, मउत घलो ह हारे हे। देस धरम के नास करइया, बइरी…

पूरा पढ़व ..

नान्‍हे कहिनी : नवा बछर के बधाई

नवा साल के नवा बिहनिया राहय अउ सुग्घर घाम के आनंद लेवत “अंजनी” पेपर पढ़त राहय। ओतके बेरा दरवाजा के घंटी ह बाजथे। “अंजनी” पेपर ल कुरसी म रख के दउड़त दरवाजा ल खोलथे।”अंजनी” जी काय हालचाल कइसे हस ? “अंजनी” (सोचत-सोचत)”जी ठीक हँव।” फेर मँय आप मन ल चिनहत नइ हँव ? अइ…..अतका जलदी भुला गेव ? मँय “नीलिमा” तोर कांलेज वाले संगवारी। वोह…..! अरे…..”नीलिमा” तँय। तँय तो अतका बदल गेस की चिनहाबे नइ करत हस।ले आवा भीतर म बइठव। अउ सुनावा काय काम बूता चलत हे आजकल। ये…

पूरा पढ़व ..