शिक्षाकर्मी के पीरा

महिमा गुरू के हावय महान काबर हमन हन अनजान जाड मा संगी झन खावा खीरा कोन समझ हि शिक्षाकर्मी के पीरा एहा जम्मो बुता करे बुता करके बिमार परे नई करय कोनो काम अधुरा कोन समझ हि शिक्षाकर्मी के पीरा आगे चुनाव अउ जनगणना एखर होगे अब तो मरना आदेश ला एहा पुरा करहि ततो एला रोटि मिलहि मंहगाई के […]

Continue reading »

जाड़ हा जनावत हे

बिहनिया ले डोकरा बबा कुडकुडावत हे चिरइ चिरगुन पंख फड़फडावत हे बडे बिहनिया झन उठीहा संगी अब के जाड़ हा जनावत हे दाई हा पनपुरवा बनावत हे ददा मंद मंद मुचमुचावत हे एति तेति झन गिंजरिहा संगी अब के जाड़ हा जनावत हे डोकरा बबा बिडी सुलगावत हे डोकरी सरसों तेल कडकावत हे आगी के तिर ले झन उठिया हा […]

Continue reading »
1 2 3 6