सदगुरु

पारस जइसे होत हे , सदगुरु के सब ज्ञान । लोहा सोना बन जथे , देथे जेहा ध्यान ।। देथे शिक्षा एक सँग , सदगुरु बाँटय ज्ञान । कोनों कंचन होत हे , कोनों काँछ समान ।। सत मारग मा रेंग के , बाँटय सबला ज्ञान । गुरू कृपा ले हो जथे , मूरख हा विद्वान ।। छोड़व झन अब हाथ ला , रस्ता गुरु देखाय । दूर करय अँधियार ला , अंतस दिया जलाय ।। नाम गुरू के जाप कर , तैंहर बारंबार । मिलही रस्ता ज्ञान के ,…

पूरा पढ़व ..

तीजा – पोरा के तिहार

छत्तीसगढिया सब ले बढ़िया । ये कहावत ह सिरतोन मा सोला आना सहीं हे । इंहा के मनखे मन ह बहुत सीधा साधा अउ सरल विचार के हवे। हमेशा एक दूसर के सहयोग करथे अउ मिलजुल के रहिथे । कुछु भी तिहार बार होय इंहा के मनखे मन मिलजुल के एके संग मनाथे । छत्तीसगढ़ ह मुख्य रुप ले कृषि प्रधान राज्य हरे । इंहा के मनखे मन खेती किसानी के उपर जादा निर्भर हे । समय – समय मा किसान मन ह अपन खुशी ल जाहिर करे बर बहुत…

पूरा पढ़व ..